Yoga Darshana (योग दर्शन) Padarth Vigyan (पदार्थ विज्ञान)-BAMS

Hello learners, welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will learn about Yoga Darshana and its influence on Ayurveda. In this chapter of Padarth Vigyan, we have already learned about the following topics:

Yoga Darshana (योग दर्शन)

yoga Darshana Ayurveda bams padartha Vigyan

योगः चित्तवृत्ति निरोधः।

योग दर्शन, छः आस्तिक भारतीय दर्शनों में से एक है। आस्तिक दर्शन वेदों की सत्ता में विश्वास रखते हैं तथा वैदिक शिक्षाओं के अर्थ को व्यवस्थित करने का प्रयास करते है। अन्य आस्तिक दर्शन में न्याय, वैशेषिक, सांख्य, पूर्व मीमांसा और उत्तर मीमांसा शामिल है।
Yoga Darshana is one of the six Astika Indian Darshana. Astika Darshana believes in the authority of the Vedas and tries to organize the meaning of the Vedic teachings. Other Astika Darshana include Nyaya, Vaisheshika, Samkhya, Purva Mimamsa and Uttara Mimamsa.

योग दर्शन की रचना पतंजलि द्वारा की गयी है। इसका मुख्य उद्देश्य योग का अभ्यास करके मोक्ष या कैवल्य प्राप्त करना है तथा मुख्य रूप से उन प्रक्रियाओं का उल्लेख करना है जिनका पालन करने से अभिभूत और आध्यात्मिक भेदो का साक्षात्कार हो सके । योग दर्शन केवल सैद्धांतिक ही नहीं बल्कि व्यवहारिक भी है। योग वह है जिसके द्वारा इन्द्रियॉं स्थिर रूप से साधक के वश में हो जाये या मन की वृत्तियों को रोकना ही योग है इसका विषय स्वास्थ्य, शरीर और सबल आत्मा दोनों है। अन्य दर्शनों की तरह यह केवल शरीर को देह नहीं मानता है अपितु उसे भी आत्मा का रूप समझता है। योग ने ईश्वर की सत्ता को स्पष्ट रूप से माना है इसलिये इसे सेश्वरसांख्य दर्शन भी कहते है। योग के अनुसार यह संसार दुःखमय है अतः इसके मोक्ष का एकमात्र उपाय योग दर्शन है। योग दर्शन, सांख्य दर्शन के २५ तत्वों के साथ २६वां तत्व ईश्वर को मानता है। यह दर्शन परिणामवाद को मानता है।
Yoga Darshana is composed by Patanjali. Its main purpose is to attain Moksha or Kaivalya by practicing yoga and mainly to mention the processes by which the realization of the spiritual and spiritual distinctions can be done. Yoga Darshana is not only theoretical but also practical. Yoga is that by which the senses are permanently controlled by the seeker or the control of the tendencies of the mind is yoga, its subject is both health, body and strong soul. Like other Darshana, it does not consider the body only as the body but also considers it to be the form of the soul. Yoga has clearly recognized the existence of God, hence it is also called Seswarasankhya Darshana. According to Yoga, this world is sorrowful, so the only solution for its salvation is yoga philosophy. Yoga Darshana considers God as the 26th element along with the 25 elements of Sankhya Darshana.

योग दर्शन चार पादों और 94 सूत्रों में लिखा गया था। पतंजलि सूत्रों के चार पद, समाधि पाद हैं जिनमें 51 सूत्र हैं, साधना निर्णय पाद में 55 सूत्र हैं, विभूति पाद में 54 सूत्र हैं और कैवल्य पाद में 35 सूत्र हैं तथा आठ अंग है जिसे अष्टांग योग कहते है। अष्टांग योग के साधना से अंतरंग पवित्र हो जाता है तथा ज्ञान की प्राप्ति होती है। अष्ट सिद्धि की प्राप्ति होती है। पुरुष, आत्म साक्षात्कार को प्राप्त कर मोक्ष की प्राप्ति करता है।
है।
Yoga philosophy was written in four padas and 94 sutras. The four Pads of Patanjali Sutras are Samadhi Pad which has 51 sutras, Sadhna Niyana Pad has 55 sutras, Vibhuti Pad has 54 sutras and Kaivalya Pad has 35 sutras and has eight limbs which is called Ashtanga Yoga. By the practice of Ashtanga Yoga, the inner becomes pure and knowledge is attained. Eight siddhis are attained. A man attains salvation by attaining self-realization.

योग का यह वर्णन है कि जो व्यक्ति योगभ्यास की सहायता से भगवान से प्रार्थना करता है, उसे अष्ट सिद्धियाँ जैसे अणिम, महिम, गरिम, लघिम, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशत्व, वसितत्व प्राप्त होती हैं।
It is described in yoga that a person who prays to God with the help of yoga practice, gets eight siddhis such as अणिम, महिम, गरिम, लघिम, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशत्व, वसितत्व .

मन की वह अवस्था जब उसमें बाह्य प्रवृत्तियाँ होती हैं, चित्तवृत्ति कहलाती है। वे संख्या में पाँच हैं अर्थात, प्रमाण, विपर्यय, विकल्प, निंद्रा, स्मृति।
The state of mind when there are external tendencies in it is called चित्तवृत्ति. They are five in number i.e., प्रमाण, विपर्यय, विकल्प, निंद्रा, स्मृति .

Yoga and Moksha

एक व्यक्ति अभ्यास और वैराग्य के माध्यम से चित्त वृत्ति निरोध प्राप्त करता है। पतंजलि, पुरुष के ऊपर भगवान के अस्तित्व को मानते हैं। पतंजलि यह भी मानते हैं कि योग के निरंतर अभ्यास से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है। यह ज्ञान कि पुरुष, प्रकृति से भिन्न है, मोक्ष कहलाता है। चित्त वृत्ति निरोध से समाधि और समाधि से मोक्ष की प्राप्ति होगी।
One attains चित्त वृत्ति निरोध through practice and dispassion, Patanjali believes in the existence of the Lord above Purusha. Patanjali also believes that continuous practice of yoga leads to salvation (मोक्ष). The knowledge that Purusha is separate from Prakriti is called Moksha. By restraining the attitude of the mind (चित्त वृत्ति निरोध) leads to samadhi and samadhi will lead to salvation.

योग दर्शन का तत्वमीमांसा सांख्य दर्शन के समान ही द्वैतवाद पर आधारित है। सांख्य-योग दर्शन के अनुसार विश्व सृष्टि की उत्पत्ति का मूल कारण त्रिगुणात्मक प्रकृति एवं पुरुष ये ही दो तत्व है। इसमें प्रकृति जड़ है और पुरुष चेतन है।
The metaphysics of Yoga philosophy is based on dualism similar to that of Samkhya philosophy. According to the Sankhya-Yoga philosophy, the root cause of the creation of the universe is the threefold nature and the Purusha. In this Prakriti is root and Purusha is conscious.

जीव (एक जीवित प्राणी) को एक ऐसी अवस्था के रूप में माना जाता है जिसमें पुरुष किसी न किसी रूप में, विभिन्न तत्वों, इंद्रियों, भावनाओं, गतिविधि और मन के विभिन्न क्रमपरिवर्तन और संयोजन में प्रकृति से बंधा होता है। असंतुलन या अज्ञानता की स्थिति के दौरान, एक या एक से अधिक घटक दूसरों पर हावी हो जाते हैं, बंधन का एक रूप बनाते हैं। इस बंधन के अंत को योग और सांख्य दोनों दर्शन द्वारा मुक्ति, या मोक्ष कहा जाता है, और जिसे अंतर्दृष्टि और आत्म-संयम से प्राप्त किया जा सकता है।
Jiva (a living being) is regarded as a state in which the Purusha is, in some form or the other, bound to Prakriti in various permutations and combinations of various elements, senses, emotions, activity and mind. During a state of imbalance or ignorance, one or more components dominate the others, creating a form of bondage. The end of this bondage is called liberation, or moksha, by both the Yoga and Samkhya philosophies, and which can be achieved through insight and self-restraint.

Ashtanga yoga (अष्टांग योग)

Ashtanga yoga Darshana padarth bams Ayurveda

यम (आत्म-संयम), नियम (आचरण के कुछ नियमों का पालन), आसन, प्राणायाम (श्वास प्रत्यावर्तन का विनियमन), प्रत्याहार (इंद्रिय अंग का नियंत्रण), धारण (मन को स्थिर रखना), ध्यान (चिंतन) ,समाधि (आत्मा में एकाग्रता की सुपर चेतन अवस्था या आत्मा के साथ एक होना)।
Yama (self-restraint), Niyama (observance of certain rules of conduct), Asana, Pranayama (regulation of breathing reflexes), Pratyahara (control of the sense organs), Dharana (stabilization of the mind), Dhyana (contemplation), Samadhi ( The super conscious state of concentration in the soul or oneness with the soul).

पहले पांच को बहिरंग कहा जाता है और बाद के तीन को अंतरंग कहा जाता है, क्योंकि वे चित्त यानी मन से संबंधित हैं।
The first three are called bahiranga and the latter five are called antaranga, because they are related to चित्त i.e. Mind.

  • यम– (आत्मसंयम)- अहिंसा, सत्य, अस्तेय (चोरी न करना), ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह (लालच से परहेज)।
  • नियम– यह भी पांच प्रकार का होता है, शौच (शरीर और मन की शुद्धि), संतोष, तपस्या, स्वाध्याय/जप, ईश्वर प्रणिधान।
  • आसन– शरीर को स्थिर स्थिति में रखता है। वे शरीर में स्थिरता, स्वास्थ्य और हल्कापन पैदा करते हैं।
  • प्राणायाम आसनों द्वारा स्थिरता प्राप्त करने के बाद प्राणायाम का अभ्यास करके अपनी श्वास को नियंत्रित करना होता है। रेचक द्वारा शरीर से अशुद्ध वायु का निष्कासन और पूरक द्वारा फेफड़ों को शुद्ध वायु से भरकर कुछ समय के लिए कुम्भक द्वारा फेफड़ों में शुद्ध वायु को रखना प्राणायाम कहलाता है।
  • प्रत्याहार – इन्द्रियों को अपने-अपने विषयों से हटा लेना और उन्हें वश में रखना प्रत्याहार कहलाता है
  • धारणा – चित्त को नाभि चक्र/हृदय या मुर्धा प्रदेश में स्थिर करना धारणा कहलाता है। धारणा की मदद से मन को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • ध्यान – बुद्धि को एकाग्रचित्त होकर धारणा स्थल में रखना ध्यान कहलाता है। यह दो प्रकार का होता है, सगुण ध्यान निर्गुण ध्यान।
  • समाधि– एक निश्चित अवधि तक मन को समाधि की अवस्था में रखने को समाधि कहते हैं। आत्मा में एकाग्रता की अति चेतन अवस्था या आत्मा के साथ एक हो जाना।
  • Yama (self-restraint)- non-violence, truth, asteya (not stealing), celibacy, aparigraha (abstaining from greed).
  • Niyama: This is also of five types, Shaucha (purification of body and mind), contentment, austerity, self-study/japa, Ishvara Pranidhana.
  • Asana keeps the body in a stable position. They create stability, health and lightness in the body.
  • Pranayama: After attaining stability through asanas, one has to control one’s breathing by practicing pranayama. Removal of impure air from the body by rechaka and filling the lungs with pure air by puraka, keeping pure air in the lungs by Kumbhaka for some time is called Pranayama.
  • Pratyahara: To withdraw the senses from one’s objects and keep them under control is called pratyahara.
  • Dharana: The stabilization of the mind in the navel chakra/heart region is called dharana. The mind can be controlled with the help of dharana.
  • Meditation: Concentrating the intellect and keeping it in the place of perception is called meditation. It is of two types, Saguna Dhyana, Nirguna Dhyana.
  • Samadhi: Keeping the mind in the state of samadhi for a certain period is called samadhi. the superconscious state of concentration in the soul or union with the soul

अष्टांग योग का धीरे-धीरे अभ्यास करने से व्यक्ति ईश्वर साक्षर प्राप्त कर सकता है और अंततः मोक्ष प्राप्त कर सकता है।

By gradually practicing Ashtanga yoga one can attain God literate and ultimately attain salvation.

प्रवर्तक (Promoter)आचार्य पतंजलि (Acharya Patanjali)
भाष्यकार (Commentator)व्यास (Vyas)
पर्याय (Synonym)सेश्वरसांख्य (Sewarsankhya)
प्रमाण (Pramana)प्रत्यक्ष, अनुमान, शब्द (Pratyalsha (direct), Anuman (conjecture),)
उद्देश्य (Purpose) योग का अभ्यास करके मोक्ष या कैवल्य प्राप्त करना
(Achieving Moksha or Kaivalya by Practicing Yoga)
अंतरंग (Antaranga) धारणा, ध्यान, समाधि (Dharna, meditation, samadhi)
बहिरंग (Bahiranga) यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार
(Yama, Niyama, Asana, Pranayama, Pratyahara)
प्रत्याहार (Pratyahara)अंतरंग व बहिरंग के बीच की कड़ी
(The link between intimate and external)

Ayurveda and Yoga darshana (आयुर्वेद और योग दर्शन)

आयुर्वेद और योग दर्शन में कर्मफल, पुनर्जन्मा, निंद्रा, मंत्रसिद्धि, मनोनिग्रह, स्मृति, अभ्यास, आत्मा, परमात्मा, ईश्वर, परिनामवाद, अष्टांगयोग, अष्टसिद्धि, अष्ट-ऐश्वर्य आदि अवधारणाओं का उल्लेख और विस्तार किया गया है। आयुर्वेद में प्राणायाम और आसन को अधिक महत्व दिया गया है।

चरक संहिता में वर्णित योग के अभ्यास के तरीके भी योग दर्शन से लिए गए हैं।

योग दर्शन और आयुर्वेद दोनों परिणामवाद में विश्वास करते हैं। मोक्ष प्राप्ति के साधन योग दर्शन और आयुर्वेद दोनों में उपलब्ध हैं।
Yoga Philosophy, concepts like karma, rebirth, sleep, mantrasiddhi, mind control, memory, practice, soul, Paramatma, Ishvara, Parinamvada, Ashtangayoga, Ashtasiddhi, Ashta-Aishwarya etc. have been mentioned and expanded. Pranayama and Asana have been given more importance in Ayurveda. The methods of practice of yoga described in Charaka Samhita are also taken from yoga philosophy.
In the next lesson, we will learn more about other Darshana. If this post helps you in understanding the Padarth vigyan and Yoga Darshana better, please like and share the post. It will keep us motivated. For any query and question please comment below and will try to solve it asap. अगले पाठ में हम अन्य दर्शनों के बारे में और जानेंगे। अगर यह पोस्ट आपको पदार्थ विज्ञान और योग दर्शन को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है, तो कृपया पोस्ट को लाइक और शेयर करें। यह हमें प्रेरित करता रहेगा। किसी भी प्रश्न और प्रश्न के लिए कृपया नीचे टिप्पणी करें और इसे जल्द से जल्द हल करने का प्रयास करेंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: