Category: Padarth Vigyan

पुरुष -पदार्थ विज्ञान – आयुर्वेद

शरीर में जो आत्मा मौजूद होती है उसे पुरुष के नाम से जाना जाता है।शरीर के चेतन धातु को पुरुष के नाम से जाना जाता है, आयुर्वेद में शारीर-सहित आत्मा को पुरुष (शरीर आत्मा) के रूप में जाना जाता है। एकधात्त्वामक पुरुष चेतनाधातुरप्येकः स्मृतः पुरूषसंज्ञकः।  शरीर की आत्मा को चेतन धातु या एकधात्त्वामक पुरुष के …

पुरुष -पदार्थ विज्ञान – आयुर्वेद Read More »

Dik (Disha)- दिक् (दिशा)

दिक् (दिशा) निरूपण दिशा को आयुर्वेद मे दिक् (dik) भी कहा जाता है। यह 9 कारण द्रव्यों मे से एक है । स्वस्थवृत्त में इसके अनेकों उदाहरण देखने को मिलते है । शौच करते समय मुख किस दिशा में हो; किस दिशा की ओर बैठकर खाना चाहिए; किस दिशा की ओर सिर रखकर सोना चाहिए; …

Dik (Disha)- दिक् (दिशा) Read More »

काल निरूपन (Kala Nirupana)

हम सभी ने बचपन मे B. R. Chopra  जी की महाभारत अवश्य देखी होगी उस धारावाहिक में मुख्य वक्ता “काल या समय” है। इसके पहले एपिसोड में हमारा साक्षात्कार समय से होता है जो की महाभारत की अमर कथा सुनाते है। जिसमें समय या काल की महत्ता का वर्णन किया गया है का कैसे समय अनंत काल से सब कुछ देखते रहे हैं और सारा संसार काल में ही उत्पन्न होकर काल में ही समा जायेगा। जो आज है वो कल नही होगा, होगा तो सिर्फ़ काल, जो की शाश्वत, अनंत, अनादि है। इस ब्लॉग में हम काल के विषय में अपना ज्ञान वर्धन करेंगे और जानेगे की काल का आयुर्वेद में क्या महत्व है।

error: Content is protected !!