Samkhya Darshana (सांख्य दर्शन)- Padarth Vigyan (पदार्थ विज्ञान)-BAMS

Hello learners, welcome to Sanskrit gurukul. In this post, we will learn about Samkhya Darshana and its influence on Ayurveda. In the previous post we have learned about the following topics:

Samkhya Darshana (सांख्य दर्शन)

Samkhya Darshana (सांख्य दर्शन)- Padarth Vigyan (पदार्थ विज्ञान)-BAMS

The Samkhya Darshana was composed by Kapil Muni. The word Samkhya is derived from the word number. It has been called Samkhya Darshana because of giving an overview of the number of 25 elements, explaining the nature (Prakriti) and the Purusha, the result and the characteristics of the three gunas, Satyakaryavada, and the special principle of salvation
सांख्य दर्शन की रचना कपिल मुनि द्वारा की गयी है। सांख्य शब्द की उत्पत्ति संख्या शब्द से होती है। 25 तत्वों के संख्या निर्देश करने से, प्रकृति एवं पुरूष की व्याख्या करने से, परिणाम व त्रिगुण की विशेषता, सत्यकार्यावाद एवं मोक्ष के विशेष सिद्धांत का साक्षात्कार कराने के कारण इसे सांख्य दर्शन कहा गया है।
Some Acharya’s say that the following 25 elements of the universe were first mentioned in this philosophy, due to this number 25 it is called Samkhya Darshana. The goal of which is to contemplate spirituality and Adhibhuta to the last level and to clarify their relationship.
कुछ आचार्यों का कहना है कि इस दर्शन में ब्रह्मांड के निम्नलिखित 25 तत्वों का सबसे पहले उल्लेख किया गया था, इस 25 संख्या  के कारण इसे सांख्य दर्शन कहा जाता है।जिसका लक्ष्य अध्यात्म एवं अधिभूत का अंतिम स्तर तक चिंतन कर उनके सम्बन्ध को स्पष्ट करना है।

Kapil Muni is said to be the fifth incarnation of Lord Vishnu in Shrimad Bhagwat. It is also said in the Vedas that the Supreme Lord had first filled Kapil Muni with knowledge.
श्रीमद्भागवत में कपिल मुनि को विष्णु भगवान का पाँचवा अवतार कहा गया है। वेदों में भी कहा गया है की परमेश्वर ने सर्वप्रथम कपिल मुनि को ही ज्ञान से परिपूर्ण किया था।

Samkhya philosophy believes in dualism. According to this, the root cause of the creation of the universe is the triple nature and the two elements. In this Prakrti is inactive and Purusha is conscious.
सांख्य दर्शन द्वैतवाद को मानता है। इसके अनुसार विश्व सृष्टि की उत्पत्ति का मूल कारण त्रिगुणात्मक प्रकृति एवं पुरुष ये ही दो तत्व है। इसमें प्रकृति जड़ है और पुरुष चेतन है।

In the Samkhya philosophy, twenty-five elements have been described as the avyakta name mula Prakrti (nature), Mahan, Ahankara, the five elements, the five mahabhutas, the eleven indriyas (senses) and the Purusha.
सांख्य दर्शन में अव्यक्त नाम मूल प्रकृति, महान, अहंकार, पंचतन्मात्रों, पंचमहाभूत, एकादश इन्द्रियॉं तथा पुरुष इन कुल पच्चीस तत्वों का वर्णन किया गया है।

Creator: Kapil Muni
Prayaya (Synonyms) Oldest philosophy
Pramana Pratyalsha (direct), Anuman (conjecture), atmopdesha (self-exhortation),
ElementsPurusha, Mool, Prakriti, Ego, Tanmatra (5), Mahabhuta (5), Indriya (11)
SpecialtySankhya philosophy is a philosophy based on the ‘system of thinking’, whose goal is to clarify the relationship between spirituality and Adhibhuta by contemplating to the last level.
Arguments Parinaam vada, satkarya vada , Causalism, Dualism

Told the order of creation and development and the senses are considered egoistic.

Sankhya philosophy also believes in pagbandha justice.

रचनाकारकपिल मुनि
पर्यायप्राचीनतम दर्शन
प्रमाणप्रत्यक्ष, अनुमान, आत्मोपदेश
तत्वपुरुष, मूल, प्रकृति, अंहकार, तन्मात्रा (५), महाभूत (५), इन्द्रियॉ (११)
विशेषतासांख्य दर्शन ‘चिन्तन प्रणाली’ पर आधारित दर्शन है जिसका लक्ष्य अध्यात्म एवं अधिभूत का अंतिम स्तर तक चिंतन कर उनके सम्बन्ध को स्पष्ट करना है।
सृष्टि उत्पत्ति एवं विकास क्रम बताया एवं इन्द्रियों को अहंकारी माना है।
वादसत्कार्यवाद, परिणामवाद, कार्य-कारणवाद, द्वैतवाद
सांख्य दर्शन

सांख्य दर्शन पग्बन्ध न्याय को भी मानता है।

Samkhaya Darshana and 25 tatwa (सांख्य दर्शन और 25 तत्व)

In samkhaya darshana 25 principles are explains which are responsible for creation of everything present in this universe. They are categorized in four groups-

  • Prakruti – which gives birth to another
  • Vikruti – which takes birth from another
  • Prakruti-Vikruti – which gives and takes birth,
  • Neither Prakruti nor Vikruti – which neither gives nor takes birth.

सांख्य दर्शन में 25 सिद्धांतों की व्याख्या की गई है जो इस ब्रह्मांड में मौजूद हर चीज के निर्माण के लिए जिम्मेदार हैं। उन्हें चार समूहों में वर्गीकृत किया गया है-

  • प्रकृति – जो दूसरे को जन्म देती है
  • विकृति – जो दूसरे से जन्म लेती है
  • प्रकृति-विकृति – जो जन्म देती है और लेती है,
  • न तो प्रकृति और न ही विकृति – जो न तो जन्म देती है और न ही लेती है

Avyakta considered as Prakruti which is one in number. Mahat- Ahamkar and panch tanmatra considered as both Prakruti and Vikruti which are 7 in numbers. Eleven indriyas ( senses), panchamahaabhut (five elements) are considered as  Vikruti which are 16 in numbers and lastly Purush is considered as neither Prakruti nor Vikruti which is one in number. This makes the total of 25 panchavimshati tatwa (25 principles) of Samkhya darshana.
अव्यक्त को प्रकृति माना जाता है जो संख्या में एक है। महत- अहंकार और पंच तन्मात्रा को प्रकृति और विकृति दोनों के रूप में माना जाता है जो संख्या में 7 हैं। ग्यारह इंद्रियां (इंद्रियां), पंचमहाभूत (पांच तत्व) को विकृति माना जाता है जो संख्या में 16 हैं और अंत में पुरुष को न तो प्रकृति माना जाता है और न ही विकृति जो संख्या में एक है। इससे सांख्य दर्शन के कुल 25 पंचविंशती तत्व (25 सिद्धांत) बनते हैं।

Avyakta (अव्यक्त) –

Vyakta can be perceived and Avyakta means which cannot be perceived. Unless we have a higher level of spirituality and intellect, it is impossible to perceive Avyakta. Avyakta is also considered Prakruti, which is infinite, inactive, and unconscious and is the most subtle element for all the creations of the physical universe. When Prakruti comes in contact with Purush (consciousness) gives rise to the manifestation of expression through 23 tatwa.

Prakruti is an equilibrium state of all the 3 tatwa viz satwa, rajas and tamas.

व्यक्त जिसे समझा जा सकता है और अव्यक्त का अर्थ है जिसे समझा नहीं जा सकता। जब तक हमारे पास आध्यात्मिकता और बुद्धि का उच्च स्तर नहीं है, तब तक अव्यक्त को समझना असंभव है। अव्यक्त को प्रकृति के रूप में भी माना जाता है, जो अनंत, निष्क्रिय और अचेतन है और भौतिक ब्रह्मांड की सभी रचनाओं के लिए सबसे सूक्ष्म तत्व है।

Mahat

Prakruti gives rise to mahat which is the next level of expression. It is tatwa (principle) responsible for buddhi (intelligence) in all living beings. Every creature on this earth has its own basic instincts and intelligence. A newborn baby knows, how to cry, how to smile etc. This basic intelligence is because of Mahat. Mahat gives rise to Ahamkar. प्रकृति महत को जन्म देती है जो अभिव्यक्ति का अगला स्तर है। यह सभी जीवित प्राणियों में बुद्धि (बुद्धि) के लिए जिम्मेदार तत्व (सिद्धांत) है। इस पृथ्वी पर प्रत्येक प्राणी की अपनी मूल प्रवृत्ति और बुद्धि है। एक नवजात शिशु जानता है कि कैसे रोना है, कैसे मुस्कुराना है आदि। यह बुनियादी बुद्धि महत के कारण है। महत अहम्कर को जन्म देता है।

Ahamkar (Individuality) अहंकार (व्यक्तित्व)

It’s is responsible for the self-sense in living beings. Ahamkara is made of two words, aham means I, and kara mean to do. Ahamkara is a subjective state of illusion, where the mind has bound the concept of one’s self with an external thing. The ego is involved in the construction of this illusion. Also, ego is required for all living beings to exist. Without ego, no creature will be interested to take care of itself.
यह जीवित प्राणियों में आत्म-बोध के लिए जिम्मेदार है। अहंकार दो शब्दों से बना है, अहम का अर्थ है मैं और कार का अर्थ है करना। अहंकार भ्रम की एक व्यक्तिपरक स्थिति है, जहां मन ने स्वयं की अवधारणा को बाहरी चीज से बांध दिया है। इस भ्रम के निर्माण में अहंकार शामिल है। साथ ही सभी जीवों के अस्तित्व के लिए अहंकार आवश्यक है। अहंकार के बिना कोई भी प्राणी अपनी देखभाल करने में रुचि नहीं लेगा।

Again, ego is of three kinds:

  • Satvik ahamkara (satvik ego)- poise, fineness, lightness, illumination, and joy, knowledge discipline, peace , wisdom- can be used to describe satva.
  • Rajasika ahamkara (Rajasika ego) – desire, money, attraction, greed, pain, excitation, pain, egotism can be few terms to describe Rajas.
  • Tamasika Ahamkara ( Tamasik ego) – Darkness, lethargy, heaviness, sleep, and jealousy can be few words to describe the tamas.

फिर, अहंकार तीन प्रकार का होता है:

  • सात्विक अहंकार – शिष्टता, सुंदरता, हल्कापन, रोशनी, और आनंद, ज्ञान अनुशासन, शांति, ज्ञान आदि, शब्दों का उपयोग सत्व का वर्णन करने के लिए किया जा सकता है।
  • राजसिक अहंकार – इच्छा, धन, आकर्षण, लोभ, पीड़ा, उत्तेजना, पीड़ा, अहंकार आदि, शब्दों का उपयोग रजस का वर्णन करने के लिए किया जा सकता है।
  • तामसिक अहंकार – तमस का वर्णन करने के लिए अंधेरा, सुस्ती, भारीपन, नींद और ईर्ष्या कुछ शब्द शब्दों का उपयोग किया जा सकता है

Mahat (intellect) and Ahamkara (ego) give rise to Panch tanmatra( five forms) –
• Shabd( sound)
• Sparsh (touch)
• Rupa (form)
• Rasa (taste)
• Gandh (smell)
The Rajas and tamas Ahamkara give rise to panch tanmatras.

महत (बुद्धि) और अहंकार पंच तन्मात्रा को जन्म देते हैं –
• शब्द (ध्वनि)
• स्पर्श (स्पर्श)
• रूपा (फॉर्म)
• रस (स्वाद)
• गंध (गंध)
रजस और तमस अहंकार पंच तन्मात्राओं को जन्म देते हैं।

Again the Panch tanmatra give rise to panch mahabutas which are:

  • Prithvi (earth)
  • Jal (water)
  • Tejas (fire)
  • Vayu (air)
  • Akash (space)
    All the things in this universe is made up of these basic five elements.These five elements in minute form (panch tanmatra) and in macro form (panch mahabhut) are born out of rajas and tamas form of Ahamkara.

पंच तन्मात्रा पंच महाभूतों को जन्म देते हैं जो हैं:

  • पृथ्वी
  • जल
  • तेजस (अग्नि)
  • वायु
  • आकाश
    इस ब्रह्मांड में सभी चीजें इन मूल पांच तत्वों से बनी हैं। ये पांच तत्व सूक्ष्म रूप (पंच तन्मात्रा) और स्थूल रूप (पंच महाभूत) में अहंकार के रज और तमस रूप से पैदा हुए हैं।

Ekadash indriya

Mind– Manas is the connecting link between the sense organs and intellect. With the presence of the mind, we can perceive things and understand them better. Mind is arising out of satwik ahamkara.

Pancha Jana indriyas (five sense organ) – Ear, eyes, skin, tongue, and nose. These Jana indriyas evolve from the satwa aspects of Ahamkara.

Pancha karma indriyas (Five organs of action) – Hands, legs, mouth, genital organs, anus. These are evolved from the rajasik aspects of Ahamkara.
मन– मानस इन्द्रिय और बुद्धि को जोड़ने वाली कड़ी है। मन की उपस्थिति से हम चीजों को समझ सकते हैं और उन्हें बेहतर ढंग से समझ सकते हैं। सात्विक अहंकार से मन उत्पन्न हो रहा है

पंच जन इंद्रियां – कान, आंख, त्वचा, जीभ और नाक। ये जन इंद्रियां अहंकार के सत्व पहलुओं से विकसित होती हैं।

पंच कर्म इंद्रियां (पांच अंग) – हाथ, पैर, मुंह, जननांग अंग, गुदा। ये अहंकार के राजसिक पहलुओं से विकसित हुए हैं।

Purush (पुरुष)

It is the last element. It possesses the following quality- Nirguna, nirvikar, nirlep, niranjan, Sakshi.
यह अंतिम तत्व है। इसमें निम्नलिखित गुण हैं- निर्गुण, निर्विकार, निर्लेप, निरंजन, साक्षी

In this way the

  • Avyakta (Prakruti), Mahat, Ahamkara
  • 11 organs (5 sense, 5 motor, and mind)
  • 5 tanmatra
  • 5 pancha mahabhuta
  • 1 purusha (soul)

Comprises the 25 tatwa explained in samkhya darshana.
इस प्रकार

  • अव्यक्त (प्रकृति), महत, अहमकार:
  • 11 अंग (5 इंद्रियां, 5 मोटर, और मन)
  • 5 तन्मात्रा
  • 5 पंच महाभूत:
  • 1 पुरुष (आत्मा)

सांख्य दर्शन में बताए गए 25 तत्वों को शामिल करता है।

Ayurveda and Samkhya darshana(आयुर्वेद और सांख्य दर्शन)

The concepts of pramana are explained in similar ways in both the science.

Purush, Prakruti and other tatwas are discussed in Sushrat, Charak and Samkhya darshana.

Parinaam vada, satkarya vada , Triguna, all the theories are explained in Ayurveda on the same line as explained in Samkhya darshana.
दोनों विज्ञानों में प्रमाण की अवधारणा को समान रूप से समझाया गया है।

सुशरत, चरक और सांख्य दर्शन में पुरुष, प्रकृति और अन्य तत्वों की चर्चा की गई है। परिनामवाद, सत्कार्यवाद, त्रिगुण, सभी सिद्धांतों को आयुर्वेद में उसी पंक्ति में समझाया गया है जैसा सांख्य दर्शन में बताया गया है।
In the next lesson, we will learn more about other Darshana. If this post helps you in understanding the Padarth vigyan and Samkhya Darshana better, please like and share the post. It will keep us motivated. For any query and question please comment below and will try to solve it asap. अगले पाठ में हम अन्य दर्शनों के बारे में और जानेंगे। अगर यह पोस्ट आपको पदार्थ विज्ञान और सांख्य दर्शन को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है, तो कृपया पोस्ट को लाइक और शेयर करें। यह हमें प्रेरित करता रहेगा। किसी भी प्रश्न और प्रश्न के लिए कृपया नीचे टिप्पणी करें और इसे जल्द से जल्द हल करने का प्रयास करेंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: