काल निरूपन (Kala Nirupana)

हम सभी ने बचपन मे B. R. Chopra  जी की महाभारत अवश्य देखी होगी उस धारावाहिक में मुख्य वक्ता “काल (kala) या समय” है। इसके पहले एपिसोड में हमारा साक्षात्कार समय से होता है जो की महाभारत की अमर कथा सुनाते है। जिसमें समय या काल की महत्ता का वर्णन किया गया है की कैसे समय अनंत काल से सब कुछ देखते रहे हैं और सारा संसार काल में ही उत्पन्न होकर काल में ही समा जायेगा। जो आज है वो कल नही होगा, होगा तो सिर्फ़ काल, जो की शाश्वत, अनंत, अनादि है। इस ब्लॉग में हम काल के विषय में अपना ज्ञान वर्धन करेंगे और जानेगे की काल का आयुर्वेद में क्या महत्व है। 

Kala, padarth vigyan

यह नौ में से आठवां करण द्रव्य है। यह अमृत (निरावयव) करण द्रव्य है।

काल शब्द क + अ + ली (धातु) = काल से बना है

काल का विवरण

kala

परिणामा या सृजन (संसार) में परिवर्तन को काल के रूप में जाना जाता है।

kala

काल एक ही है, लेकिन विभिन्न प्रस्तुतियों और गणनाओं के लिए कई हैं, इसे दिन-मास-संवत्सर आदि के रूप में व्यक्त किया जाता है। (निमेष से संवत्सर)

kala

कला को भगवान (सर्वशक्तिमान), स्वयंभू (स्वयं प्रवर्तक) कहा जाता है। इसकी उत्पत्ति, अस्तित्व और अंत अस्पष्ट हैं। यह द्रव्य रसोत्पत्ति और विकृति आदि का कारण है, और यह मानव के जीवन और मृत्यु को नियंत्रित करता है।

kala

यह एक क्षण के लिए भी नहीं रुकता, सब कुछ स्थिर और अपरिवर्तित है।

kala

काल चक्र की तरह गतिशीला (घूर्णन) है।

kala

यह जीवों के सुख से दुख को जोड़ता है।

kala

काल जीवों को मृत्यु की ओर ले जाता है।

kala

यह जीवों के उत्पादन का कारण है।

kala

काल निमेष (मात्रा) से संवत्सर (युग, कल्प आदि) तक की गणना का ज्ञान देता है।

kala

यह त्रिकाल (अतीत, वर्तमान, भविष्य), एक (एक), विभु (व्यापक) और नित्य (शाश्वत) का ज्ञाता है।

kala

काल परा (बड़ा) और अपरा (कम), युगपद (परा-अपरा), चिरा (शाश्वत) और क्षिप्रा (त्रिकाल) ज्ञान के ज्ञान के लिए उत्तरदायी है।

यह त्रिकाल (शीत-वर्षा-उष्णा) और षट्-ऋतु (वसंत-ग्रीष्म-वर्षा-शरद-हेमंत और शिशिर) के समय पर प्रकट होने के लिए है।

kala

संसार की सभी गतिविधियाँ काल के अधीन हैं, यदि नहीं तो दुनिया निष्क्रिय हो जाती है। इसमें अक्ष-निमेश से लेकर संवत्सर तक के विभाग हैं।

काल-गुण: सांख्य, परिमाण, पृथाक्त्व, संयोग और विभाग।

काल-विभाग (समय के विभाजन, सुश्रत संहिता)

पलकें झपकने का समयनिमेष या मात्रा
15 मात्रा1 काष्ठा
30 काष्ठा1 कला
20 (20 ¼  or 20 1/10) कला1 नादिका
2 नादिका1 मुहूर्त
3 ¾  मुहूर्त1 यम
8 यम1 अहोरात्री (एक दिन)
15 अहोरात्री 1  पक्ष
2 पक्ष1 मास
2 मास1 रीतु
3 रीतु1 अयाना
2 अयाना1 वर्ष (वर्ष, युग, महायुग, कल्प)

भागवत के अनुसार

2 परमाणु1 अनु
3 अनु1 त्रासरेनू

त्रासरेणु के लिए समय की आवश्यकता है

दो सूर्य किरणों में चलते हैं1 त्रुति
100 त्रुति1 वेद
3 वेद1 लावा
3 लावा1 निमेष
3 निमेष1 क्षना
5 क्षना1 कष्ठ
15 कष्ठ1 लघु
15 लघु1 नादिका
2 नादिका1 मुहूर्त

काल के औपाधिका भेद (चरक संहिता)

यह 2 प्रकार का होता है –

  • नित्यग काल – संवत्सर, ऋतु, आदि के अनुसार आहार-विहार लेना।
  • आवस्थिक काल – रोगी-रोग अवस्था के अनुसार आहार-विहार लेना
  1. नित्यग काल
    संवत्सर या वर्ष में 2 अयन होते हैं –
    1. उत्तरायण या अदाना कला
    2. दक्षिणायन या विसर्ग कला।
उत्तरायण या अदान कलाशिशिर ऋतुमाघ
फाल्गुन
वसंत ऋतुचैत्र
वैशाख
ग्रीष्म ऋतुज्येष्ठ
आषाढ़
दक्षिणायन या विसर्ग कलावर्षा ऋतुश्रावण
भाद्रपद
शरत ऋतुअश्विनी
कार्तिका
हेमंत ऋतुमार्गशीर्ष
पुष्य
  1. अवस्थिका काल और अतूरा काल
    यह 2 प्रकार का होता है –
    1. कालज औषधि सेवन,
    2. अकालज औषधि सेवन।

क्रियाकला/औषध-सेवन कला

वात शोधन के लिए श्रावण मास वस्ति
पित्त शोधन के लिएकार्तिक मास विरेचन
कफ शोधन के लिएचैत्र मास वमन

आयुर्वेद में काल का महत्व

आयुर्वेद में कला की महत्वपूर्ण भूमिका है, बस हर सिद्धांत कला से जुड़ा हुआ है। यहाँ कुछ उदाहरण दिए गए हैं जो आयुर्वेद और कला के संबंध को सिद्ध करते हैं।

  • रोगों का प्रमुख वर्गीकरण काल के आधार पर किया जाता है, अर्थात
    • कालज व्याधीस
    • अकालजा व्याधीस।
      • कालज व्याधि (प्राकृतिक रोग) – वृद्धावस्था में त्वचा पर झुर्रियों के साथ सफेद बाल, बुढ़ापा अंधापन, बुढ़ापा बहरापन आदि।
      • अकालज व्याधि (अप्राकृतिक रोग) – युवावस्था में बालों का सफेद होना, युवावस्था में अंधापन या बहरापन आदि।
  • समय पर भोजन, विश्राम, व्यायाम, निद्रा स्वास्थ्य देती है
    • दिवास्वप्न (दिन में सोना) कफ-वृद्धि का कारण बनता है
    • निशि-जागरा (रात में जागरण) वात-वृद्धि का कारण बनता है
    • अकाल-भोजन – अजीर्ण (अपच) का कारण बनता है
    • अतिव्यायाम (अत्यधिक व्यायाम) वात-वृद्धि का कारण बनता है
    • अत्यधिक आराम भी कफ-वृद्धि का कारण बनता है।
  • उपचारों का समय पर संग्रह, प्रसंस्करण, संरक्षण, निर्माण और उपयोग सही परिणाम देता है
    • हर्बल पाउडर छह महीने तक शक्तिशाली होता है और फिर एक्सपायर हो जाता है।
    • खनिज औषधियां – घृत (घी) जितना पुराना हो उतना अच्छा।
    • पुष्यामी नक्षत्र में पुष्यानुगा चूर्ण (श्वेत प्रदर का उपचार) का संग्रह करना चाहिए।
    • पुंसवन कर्म (लड़के के लिए उपाय) गर्भावस्था के तीसरे महीने में दिया जाना चाहिए।
    • सामान्यतः औषधियों का संग्रह पुष्यमी, अश्विनी तथा मृगशिरा नक्षत्र में करना चाहिए।
    • दवाओं के विभिन्न भागों को विशिष्ट मौसम में एकत्र करने की सलाह दी जाती है।
    • समय सारिणी का पालन न करने पर दवाओं की शक्ति कम हो जाती है।
  • रोगों के होने के लिए भी समय विनिर्देश है (यह रोग के छह चरणों को पार करना चाहिए (षट् क्रियाकला) वे हैं –
    • छाया (संचय का चरण)
    • प्रकोपा (उत्तेजना का चरण)
    • प्रसार (प्रसार का चरण)
    • स्थानसार आश्रय (स्थानीयकरण का चरण)
    • अभिव्यक्ति भव (अभिव्यक्ति का चरण)
    • भेदा (जटिलता की अवस्था)
  • उपचार के लिए भी समय का महत्व है। कम पुराने रोग जल्दी ठीक हो जाते है, ज्यादा पुराने  रोग लाइलाज हो जाते है।
  • गर्भावस्था, प्रसव, वृद्धि, अंगों का विकास, शारीरिक, रोग संबंधी भिन्नताएं और मृत्यु समय से संबंधित है।
    • गर्भावस्था – 36 से 40 सप्ताह।
    • मासिक धर्म के सम दिनों में मैथुन द्वारा बालक का जन्म तथा विषम दिनों में कन्या का जन्म।
    • आंतरिक अंगों, आत्मा, मानस, ओजस, बुद्धि आदि के विकास का एक विशिष्ट समय होता है।
    • बाल-यौवन-वृद्ध चरण भी आयु से जुड़े हुए हैं
    • पाचन, श्वसन, पेशाब, शौच आदि, और प्रणालीगत गतिविधियाँ समय से संबंधित हैं।
    • नाडी-गति या हृदय-गति 70 से 80 समय/मिनट, श्वास-गति 18/मिनट, मूत्र उत्पादन 1.5 से 2 लीटर/दिन आदि।
  • त्रिदोष छाया-प्रकोप-प्रशम काल आधारित हैं।
त्रिदोषछायाप्रकोपप्रशमन
वातग्रीष्म ऋतुवर्षा ऋतुशरद ऋतु
पित्तवर्षा ऋतुशरद ऋतुहेमंत ऋतु
कफशिशिर ऋतुवसंत ऋतुग्रीष्म ऋतु
  • बाल्य – कफ दोष प्रधानता के साथ
    मध्यमा – पित्त दोष प्रबलता के साथ
    वृद्धा – वात दोष प्रबलता के साथ
  • प्रत्येक व्यक्ति का जीवन कउसके पिछले जन्म के भाग्य के अनुसार निर्धारित होता है।
  • इसलिए स्वास्थ्य, शरीर, रोग, औषधि, प्रकृति, इन्द्रिय, मानस, आत्मा, मृत्यु आदि सभी सिद्धांत समय के अनुसार हैं, क्यों क्योंकि समय ही ईश्वर है।

सारांश

  • काल आठवां करण द्रव्य है।
  • यह अमृत द्रव्य (निरावयव) है, जिसे ईश्वर के नाम से जाना जाता है; परिणाम या गति या क्रिया के कारण, एक क्षण के लिए भी रुकता नहीं है; सृष्टि, स्थिति और लय का कारण, जीवों को मृत्यु की ओर ले जाता है, सुख को दुःख से जोड़ता है, तीन समय के ज्ञान का ज्ञाता, परा (महान), अपरा (कम), युगपद (परापारा), चिरा (शाश्वत) और क्षिप्रा (अतीत, वर्तमान और भविष्य) ज्ञान, विभिन्न मौसमों को नियंत्रित करता है, कालज-अकालज रोग के प्रकट होने का कारण जैसे बुढ़ापा, मृत्यु, फलों का पकना आदि, जीवन-व्यापार (शारीरिक शारीरिक, रोग संबंधी अपक्षयी स्थिति) का कारण। गणनाओं का माध्यम (एक दिन – एक वर्ष आदि) तथा प्रत्येक सांसारिक क्रिया का कारण हैं।
  • औषधियों के संग्रह, शुद्धिकरण, निर्माण, विषाक्तता, दवा की वैधता, दवा की समाप्ति, रोग, उपचार के कार्यक्रम, जन्म, विकास, भ्रूण में विभिन्न अंगों के विकास, मानव जीवन के विभिन्न चरणों, मृत्यु आदि और रचना और विकास में कला की प्रमुख भूमिका है।

Kala Nirupana

The kala or time is an unavoidable facto in Ayurveda.The physiological variations in the body along with the pathological changes do expect time as a factor of manifestation. Similarly, the treatment modalities also depends on the time whether in the form of the time of medication or the expiry date of medicine.  

It is the eighth Karana Dravya among the nine. It is Amurta (Niravayava) Karana Dravya.

The word Kala is derived from Ka + A + Li (dhatu)= Kala

Description of Kala

The Parinama or change in the creation (world) is known as Kala.

Kala is only one but many for the different presentations and the calculations, it is expressed as Dina-Masa-Samvatsara etc. (Nimesha to Samvatsara)

Kala is said as Bhagavan (The Almighty), Swayambhu (self originator), and devoid of birth,growth and death, is the cause of the rasa-sampata (wholesome taste) and rasa-vipat (unwholesome taste and responsible factor for the birth and death of human being.

It never stops even for a moment, everything is fixed and unchanged.

Kala is Gatisheela (rotation) like a wheel.

It Joins the Sukha to Duhkha of living beings.

It mobilises the living beings towards death.

It is the cause of production of living beings.

It gives the knowledge of calculations from Nimesha (Matra) to Samvatsara (yuga, kalpa etc.)

It is the knower of Trikala (past, present, future), Eka (one), Vibhu (pervading) and Nitya (eternal)

It is responsible for the knowledge of Para (senior/more experienced) and Apara (junior/less experienced), Yugapat (para-apara), Chira (eternal) and Kshipra (Trikala) Jnana.

It is for the timely manifestation of Trikala (Shita-Varsha-Ushna) and Shad-ritu (Vasanta-Grishma-Varsha-Sharat-Hemanta and Shishira).

All the activities of the world are under control of Kala, if not the world becomes inactive. It has divisions from Akshi-nimesha to Samvatsara.

14) Kala-gunas : Sankhya, Parimana, Prithaktwa, Samyoga and Vibhaga.

Kala-vibhāga (The divisions of Time)

A) Time to blink the eyelidsNimesha or matra
15 Matra1 Kāshtha
30 Kāshtha1 Kala
20 (20 ¼  or 20 1/10) Kala1 Nadika
2 Nadika1 Muhurta
3 ¾  Muhurta1 Yāma
8 Yāma1 Ahoratri (one day)
15 Ahoratri1  Paksha
2 Paksha1 Masa
2 Masa1 Ritu
3 Ritu1 Ayana
2 Ayana1 Varsha (Varsha, Yuga, Mahayuga, Kalpa)

B) As per Bhagavata

2 Paramanu -1 Anu

3 Anu -1 Trasarenu

Times required for Trasarenu

Two move in sun rays1 Truti
100 Truti1 Vedha
3 Vedha1 Lava
3 Lava1 Nimesha
3 Nimesha1 Kshana
5 Kshana1 Kashtha
15 Kashtha1 Laghu
15 Laghu1 Nādikā
2 Nãdikã1 Muhurta

16) Aupadhika bedha of Kala

It is of 2 types –

  • Nityaga kala – Taking Ahara-vihara as per Samvatsara – Ritu, etc.,
  • Avastika kala – Taking Ahara-vihara as per Rogi-roga Avastha 

i) Nityaga kala

The Samvatsara or Varsha (year) contains 2 Ayana –

  • Uttarayana or Adāna kala
  • Dakshinayan or Visarga Kala.
Uttarayana or Ādāna KalaShishira RituMagha
Phālguna
Vasanta RituChiatra
Vaishakha
Grishma RituJyeshtha
Ashadha
Dakshinayan or Visarga Kala.Varsha RituShravana
Bhādrapada
Sharad RituAshawani
Kărtika
Hemant RituMargashirsha
Pushya

Note : Again every Masa is divided in to Shukla paksha and Krishna paksha of 15 days each.

II) Avasthika Kala or Ätura kala

It is of 2 types –

  • Kalaja Aushadha sevana,
  • Akalaja Aushadha sevana.

Kriyakala/Aushadha-sevana Kala

  • Shravana masa Vasti for Vata shodhana
  • Kartika masa Virechana for Pitta shodhana
  • Chitra masa Vamana for Kapha shodhana

Importance of Kala in Ayurveda

Kala has a significant role in Ayurved, merely every principle is linked with Kala. Here are a few examples that prove the relationship between Ayurveda and Kala.

  • The major classification of the diseases is done based on Kala, ie,
    • Kalaja vyadhis
    • Akalaja vyadhis.
      • Kalaja vyadhis (natural diseases) -Gray hair with wrinkles on skin in old age, senile blindness, senile deafness etc.,
      • Akalaja vyadhis (unnatural diseases) – Graying of hair in young, blindness or deafness to the young etc.
  • Timely food, rest, exercise, sleep gives health
    • Divaswapna (day sleeping) causes Kapha-vriddhi
    • Nishi-Jagran (awakening at night) causes Vata-vriddhi
    • Akala-bhojana – causes Ajirna (indigestion)
    • Ativyayama (excess exercise) causes Vata-vriddhi
    • Excessive rest also causes Kapha-vriddhi.
  • Timely collectiorn of remedies, processing, preserving, manufacturing and usage gives correct results
    • Herbal powders potent up to six months then expire.
    • Mineral medicines – Ghrita (ghee) preparations are the older the best.
    • Pushyanuga churna (a remedy for white discharge) should be collected in Pushyami nakshtra.
    • Pumsavana karma (remedy for male baby) should be given in the 3rd month of pregnancy.
    • Medicines commonly should be collected in Pusyami, Ashwini, and Mrigashira Nakshatra.
    • Different parts of the medicines are advised to collect in specific seasons.
    • The  potency of the medicines reduces if not followed the time schedule.
  • For the occurrence of the diseases also Time specification is there (it should cross the six stages of diseases (shat kriyakala) they are –
    • Chaya (stage of accumulation)
    • Prakopa (stage of provocation)
    • Prasara (stage of propagation)
    • Sthanasarmshraya (stage of localization)
    • Vyaktibhava (stage of manifestation)
    • Bheda (stage of complication)
  • For the treatment also Time importance is there. Disease with less chronicity cures early, disease with more chronicity becomes incurable.
  • The pregnancy, delivery, growth, development of organs, anatomical, physiological,  pathological variations and the death is time concerned.
    • Pregnancy – 36 to 40 weeks.
    • Male childbirth by sexual intercourse on even days of menstruation and female baby on odd days.
    • Development of internal organs, Atma, Manas, Ojas, Buddhi, etc., have a specific time of occurrence.
    • Bala-yauvana-vriddha stages are also age-linked.
    • Digestion, respiration, urination, defecation, etc., & systemic activities are time concerned.
    • Nadi-Gati or Hridaya-gati 70 to 80 time/mt, Shwasa-gati 18/mt, urine output 1.5 to 2 L/day, etc.,

Tridosha Chaya-prakopa-prashama is time-based.

Tri doshaChayaPrakopaPrashamana
VataGrishma rituVarsha rituSharad ritu
PittaVarsha rituSharad rituHemanta ritu
KaphaShishira rituVasanta rituGrishma ritu
  • Bālya – with Kapha dosha predominance
    Madyama – with Pitta dosha predominance
    Vriddha – with Vata dosha predominance
  • The lifespan of every individual is fixed as per his fate of previous birth.
  • Hence all the principles of health, body, disease, drugs, nature, Indriya, Manas, Atma, death, etc., are as per the time, why because Time is God.

The Summary

  • Kala is the 8th Karana dravya. 
  • It is Amurta dravya (Niravayava), known as God; cause of Parinama or Gati or Kriya, never stops even for a moment; cause of Srishti, Sthiti, and Laya, mobilizes the living beings towards death, joins Sukha to Duhkha, knower of three-time knowledge, responsible for Para (the great), Apara (the lesser), Yugapad (Parāpara), Chira (eternal) and Kshipra (past, present and future) jnana, regulates the different seasons, cause of manifestation of Kalaja-Akalaja roga like old age, death, ripening of fruits, etc, cause of Jivana-vyapara (anatomical physiological, pathological degenerative conditions). Media of calculations (one day – 1 year etc) and cause of each and every worldly activity.
  • Kala has a great role in Ayurveda in connection to collection of remedies preservation, purification, manufacturing, toxicity, validity of medicine, expiry of medicine, disease, programme of treatment, birth, growth, development of different organs in embryo, different stages of human, death, etc., and Kala is having master role in creation and evolution.
  • Kala is Eka but visible as many, Eternal (Nitya), No origin or end (Anadi) Ananta have pervading nature vibhu), cause for all Parinamakara bhavas and.believed as God.
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: