Jal Mahabhuta(जल महाभूत)

Dear learner, welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will study Jal Mahabhuta(जल महाभूत). This topic is part of Padarth Vigyan’s notes, BAMS first-year course. In this third chapter, Dravya Nirupana, we have already covered the following topics:

Topic: Jal Mahabhuta
Subject: Padarth Vigyan Part-I
Chapter: Dravya Nirupana
Course: BAMS First year

jal mahabhuta adarth vigayan notes

JAL NIRUPANA

It is one among the Panchamahabhutas and it is the 4th Karana dravya.

jal mahabhuta, padarth vigyan notes

The Jal mahabhuta is formed from the Agni mahabhuta. (Taitiriyopanishad).
It originates from the rasa tanmatra. The entire universe attains liquidity (Jalatwa or dravatwa) through Agni. The solids when heated in the air become liquid. It means Tejo dhatu gives the state of liquidity to Padartha.

jal mahabhuta, padarth vigyan notes

Ap or Jal < Tejas < Vayu < Akasha (Paramanu rupa)

Hence it contains Rasa, Rupa Sparsha as special features and Dravatva-Snehatwa as prominent features.

It contains Sattva guna and Tamo guna predominantly (Sushruta). 

It contains Shveta (white) varna, Madhura rasa (sweet taste), and sheeta (cold) sparsha. Any variations that occur in color, or taste, it is due to the collection of impurities.

The 14 qualities of Jal as per Prashastapada :

  • Rupa(appearance),
  • Rasa(taste),
  • Sparsha(touch), Vishesha guna
  • Dravatva(fluidity),
  • Snehatva(unctuousness), Jal-pradhana Lakshana
  • Gurutva (heaviness) Due to Tamo guna
  • Samskara (impulse) Bhuta-anupravesha Lakshana
  • Sankhya(number),  
  • Pramana(measurement),
  • Prithakatva(distinction),
  • Samyoga(combination),
  • Vibhaga(division),
  • Paratva(superiority),
  • Aparatva (inferiority) Received from Tejobhuta ((Chakshurindriya)

Gunas of Jal: As per different Authors

According toGunas
Karikavali/ Prashästapada1) Rupa, 2) Rasa, 3) Sneha, 4) Sparsha, 5) Sankhya, 6) Parimana, 7) Prithaktwa, 8) Samyoga,9) Vibhaga, 10) Paratwa, 11) Aparatwa, 12) Gurutwa,13) Dravatva, 14) Samskara.
Vaisheshika1) Rupa, 2) Rasa, 3) Sparsha
Charaka1) Rasa, 2) Dravatva
Sushruta1) Sattva, 2) Tamas
BhavaprakashaSnigdha

Types of Jal

It is of 2 types: 1) Nitya, 2) Anitya.

  • Nitya jal is in Paramanurupa (atomic form).
  • Anitya jal is in Karyarupa

Anitya jal is further divided into three types, they are :

  • Sharira, 
  • Indriya, 
  • Vishaya.
  • Sharīra jal: It is Ayonija and resides in Varuna Loka.
  • Indriya jal: It is Rasanendriya (tongue), and its main quality is Rasa-grahana. (Taste perception).
  • Vishaya jal: Sea, rivers, lakes, and wells.

Four Sources or positions of Jal

  • Ambha: It is present in Akash above the level of Surya-Mandal (site of Paramatma), it is known as “Soma” or Amrita jal, it is Sukshma Paramanurupa, it is being boiled by Surya-Rashmi.
  • Marichi: It is present in Akash, in between earth and Surya-Mandal, the Sunlight comes to earth by traveling through this water.
  • Mara: It is the water present on earth originating from the combination of the above two, it is Sthula bhuta jal.
  • Ap: It is the water present in the internal surface of the earth.

In the above, the 1-2 are known as Antariksha jal, the 3rd one is rivers and lakes and the 4th one is the well water.

Apyātmaka bhava in Sharira

Rasanendriya, Sweda, Kleda, Vasa, Rakta, Mutra, Sheetattva, Snehatwa, Dravatva, Eka, Mridu, etc are Lakshana.

Importance of Jal in Ayurveda

The importance of Jal in Ayurveda is as under-

  • As a precursor of the Kapha. The Kapha dosha owes its origin to mainly the jal mahabhuta. The Kapha is responsible for the strength of the body. The madhura rasa is especially Kapha prakopa.
  • Rasa utpatti- The madhura rasa (sweet taste) is formed from the Prithvi and Jal mahabhuta and the lavana rasa (salt taste) is formed from the Agni and Jal mahabhuta.
  • The Jaleeya bhava in the body- The factors that are dravya (fluid), Sara (mobile), manda (slow or mild), Snigdha (unctuous), mrdu (soft), and picchila (slimy) like the rasa, rakta, vasa, Kapha, Pitta, mootra, Sweda, etc along with rasa (taste) and rasendriya (tongue) are attributed to the Jal mahabhuta.
  • In the treatment- The Jal mahabhuta dominant dravya are Seeta (cold), stimita (stagnant), Snigdha (unctuous), manda (slow or mild), guru (heavy), Sara (mobile), Sandra (concentrated), mrdu (soft), picchila (slimy), rasabahulam (very juicy), isat kashaya-amla-lavana (mild astringent-sour-salty) and generally madhura (sweet). They are used to produce unctuousness, pleasure, moisture, bonding, and secretion in the body.

Summary of Jal Nirupana

  • It is one among Panchamahabhuta and 4th Karana dravya.
  • It is formed from Agni.
  • Rupa, Rasa, Sparsha are Vishesha guna.
  • Dravatwa (liquidity), and Snehatwa (oiliness) are Pradhana gunas.
  • Gurutwa guna is due to Tamo guna.
  • It possesses Sattva and Tamo guna predominantly.
  • It contains Shweta varna (bright white color), Madhura rasa (Sweet taste), and Sheeta sparsha (Cool in touch).
  • It possesses 14 qualities: Rupa, Rasa, Sparsha, Dravatva, Snehatwa, Gurutva, Samskara, Sankhya, Parimana, Prithaktva, Samyoga, Vibhaga, Paratwa, Aparatva.
  • Jalabhuta – bhavas : 1) Rasanendriya, 2) Sweda, 3) Kleda, 4) Vasa, 5) Rakta, 6) Mudra, 7) Sheetatva, 8) Snehatwa, 9) Dravatva, 10) Mridutva.
  • Nitya-jal Paramanurupa, Anitya-jal Karyarupa, and Anitya have the following 3 divisions.
    • Sharira jal is present in Varuna loka.
    • Indriya jal means – Rasanendriya.
    • Vishaya jal means – Rivers, lakes, wells, etc.,
  • Ambha jal means – Soma or Amrita jal present above the level of Surya-Mandal.
    • Marichi jal means – Jal which is present between Surya-Mandal and earth.
    • Mara jal means – Water which is present on earth.
    • Ap jal means – Water which is present in the deep layer of the earth.

जल निरुपण

यह पंचमहाभूतों में से एक है और यह चौथा करण द्रव्य है।

jal mahabhuta, padarth vigyan notes

जल महाभूत अग्नि महाभूत से बना है। (तैत्रियोपनिषद)।

इसकी उत्पत्ति रस तन्मात्रा से हुई है।
अग्नि के माध्यम से संपूर्ण ब्रह्मांड तरलता (जलतवा या द्रवत्व) प्राप्त करता है।
ठोस को वायु में गर्म करने पर द्रव बन जाता है। इसका अर्थ है तेज धातु पदार्थ को तरलता की स्थिति देता है।

jal mahabhuta, padarth vigyan notes

जल < तेजस < वायु < आकाश (परमाणु रूप)

इसलिए इसमें रस, रूप स्पर्श विशेष विशेषताओं के रूप में और द्रवत्व-स्नेहत्व प्रमुख विशेषताओं के रूप में शामिल हैं।

इसमें मुख्य रूप से सत्वगुण और तमोगुण शामिल हैं। (सुश्रुत)

इसमें श्वेता वर्ण, मधुरा रस और शीतल स्पर्श शामिल हैं। रंग, या स्वाद में होने वाली कोई भी भिन्नता अशुद्धियों के संग्रह के कारण होती है।

प्रशस्तपाद के अनुसार जल के 14 गुण:

  • रूप,
  • रस,
  • स्पर्श विशेष गुण
  • द्रवत्व,
  • स्नेहत्व जल-प्रधान लक्षण
  • गुरुत्व तमो गुण के कारण
  • संस्कार भूत-अनुप्रवेश लक्षण:
  • संख्य,
  • परिमाण
  • पृथ्वीकत्व,
  • संयोग
  • विभाग,
  • परत्तवा
  • अपरत्तव तेजोभूत ((चक्षुरिंद्रिया) से प्राप्त

जल के गुण: विभिन्न लेखकों के अनुसार

के अनुसारगुण
करिकावली/प्रशस्तपद:1) रूपा, 2) रस, 3) स्नेहा, 4) स्पर्श, 5) सांख्य, 6) परिमाना, 7) पृथ्वीकत्व, 8) संयोग, 9) विभाग, 10) परत्व, 11) अपरत्व, 12) गुरुत्व,13) द्रवत्व, 14) संस्कार।
वैशेषिक1) रूपा, 2) रस, 3) स्पर्श:
चरक1) रस, 2) द्रवत्व:
सुश्रुत:1) सत्व, 2) तमस्:
भवप्रकाश:स्निग्धा

जल के प्रकार

यह 2 प्रकार का होता है: 1) नित्य, 2) अनित्य।

  • नित्य जल, परमाणुरुप में है।
  • अनित्य जल कार्यरूप में है

अनित्य जल को आगे तीन प्रकारों में विभाजित किया गया है, वे हैं:

  • शरीर,
  • इंद्रिया,
  • विषय.

शरीर जल: यह अयोनिज है और वरुण लोक में निवास करता है।

इन्द्रिय जल : यह रसेन्द्रिय है, इसका मुख्य गुण रस-ग्रहण है। (स्वाद धारणा)।

विषय जल: समुद्र, नदियाँ, झीलें और कुएँ।

जलो के चार स्रोत या पद

  • अम्ब: यह आकाश में सूर्य-मंडल  के स्तर से ऊपर मौजूद है, इसे “सोम” या अमृता जल के रूप में जाना जाता है, यह सुषमा परमानुरुप है, इसे सूर्य-रश्मि द्वारा उबाला जा रहा है।
  • मरीचि : यह आकाश में मौजूद है, पृथ्वी और सूर्य-मंडल के बीच में, इस जल से होकर सूर्य का प्रकाश पृथ्वी पर आता है।
  • मर : उपरोक्त दोनों के संयोग से पृथ्वी पर उपस्थित जल ही स्थूल भूत जल है।
  • अप: यह पृथ्वी की आंतरिक सतह में मौजूद पानी है।

उपरोक्त में 1-2 को अन्तरिक्ष जल, तीसरे को नदियाँ और झीलें और चौथा कुएँ का जल कहा जाता है।

शरीर में अप्यात्मक भव

रसेन्द्रिय, स्वेद, क्लेदा, वासा, रक्त, मुद्रा, शीतलत्व, स्नेहत्व, द्रवत्व, एक, मृदु आदि लक्षण हैं।

आयुर्वेद में जल का महत्व

आयुर्वेद में जल का महत्व इस प्रकार है-

  • कफ के पूर्ववर्ती के रूप में- कफ दोष की उत्पत्ति मुख्य रूप से जल महाभूत के कारण हुई है। कफ शरीर में मजबूती के लिए जिम्मेदार होता है। मधुरा रस विशेष रूप से कफ प्रकोपक है।
  • रस उत्पत्ति- मधुरा रस (मीठा स्वाद) पृथ्वी और जल महाभूत से बनता है और लवण रस (नमक स्वाद) अग्नि और जल महाभूत से बनता है।
  • शरीर में जलीय भाव- वह प्रक्रिया जो द्रव, सारा (चलित), मंडा (धीमी या हल्की), स्निग्धा (चिकना), मृदु (नरम), और पिचिला (चिपचिपा) हैं, जैसे रस, रक्‍त, वासा, कफ, पित्त, मूला, स्‍वेद आदि के साथ रस (स्‍वाद) और रासनेंद्रिया (जीभ) के लिए जल महाभूत जिम्‍मेदार हैं।
  • इलाज में- जल महाभूत के प्रमुख द्रव्य शीत (ठंडा), उत्तेजना (स्थिर), स्निग्धा (चिकना), मंडा (धीमा या हल्का), गुरु (भारी), सारा (चलित), सैंड्रा (गाड़ा), मृदु (नरम), पिचिला (चिपचिपा), रसबहुल (बहुत रसदार), कसाया-आंवला-लवनम (हल्का कसैला-खट्टा-नमकीन) और आम तौर पर मधुरा (मीठा)  है। इनका उपयोग शरीर में अचंचलता, सुख, नमी, बन्धन और स्राव उत्पन्न करने के लिए किया जाता है

जल निरुपण का सारांश

  • यह पंचमहाभूत और चौथे करण द्रव्य में से एक है।
  • यह अग्नि से बनता है।
  • रूपा, रस, स्पर्श विशेष गुण हैं।
  • द्रवत्व (तरलता), स्नेहत्व (तैलीयपन) प्रधान गुण हैं।
  • गुरुत्व गुण तमो गुण के कारण होता है।
  • इसमें मुख्य रूप से सत्त्व और तमो गुण होते हैं।
  • इसमें श्वेत वर्ण (चमकदार सफेद रंग), मधुरा रस (मीठा स्वाद), शीतल स्पर्श (स्पर्श में ठंडा) शामिल हैं।
  • इसमें 14 गुण हैं: रूप, रस, स्पर्श, द्रवत्व, स्नेहत्व, गुरुत्व, संस्कार, सांख्य, परिमान, पृथ्वीत्व, संयोग, विभाग, परत्व, अपरत्व।
  • जलाभूत – भाव: 1) रसेन्द्रिय, 2) स्वेद, 3) क्लेदा, 4) वासा, 5) रक्त, 6) मुत्र, 7) शीतलत्व, 8) स्नेहत्व, 9) द्रवत्व, 10) मृदुत्व।
  • नित्य-जला परमानुरुप, अनित्य-जला कार्यरूप, अनित्य के निम्नलिखित 3 विभाग हैं।
    • वरुण लोक में शरीरा जल विद्यमान है।
    • इन्द्रिया जल का अर्थ है – रसेन्द्रिय ।
    • विषय जल का अर्थ है – नदियाँ, झीलें, कुएँ आदि।
  • अंभ जल का अर्थ है – सूर्य मंडल के स्तर से ऊपर मौजूद सोम या अमृता जल।
    • मरीचि जल का अर्थ है – वह जल जो सूर्य-मंडल और पृथ्वी के बीच में मौजूद हो।
    • मर जल का अर्थ है – जल जो पृथ्वी पर मौजूद है।
    • अप जल का अर्थ है – जल जो पृथ्वी की गहरी परत में मौजूद है।
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: