Vayu MahaBhuta (वायु महाभूत)

Dear learner, welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will study Vayu mahabhuta (वायु महाभूत). This topic is part of Padarth Vigyan’s notes, BAMS first-year course. In this third chapter, Dravya Nirupana, we have already covered the following topics:

Vayu mahabhuta, padarth vigyan, sanskrit gurukul, ayurveda

VAYU NIRUPANA

Vayu is one among Panchamahabhuta and it is the 2nd Karana dravya. The Vayu mahabhuta is formed from Akasha mahabhuta.

Vayu

The word Vayu is derived from the word ‘वा गतिगन्धनयोः’ means it exerts motility and pressure.

Vayu

Vayu is unmanifested but the action can be experienced with Sparsha etc.

Vayu

It possesses the Rajo guna predominantly, hence can initiate the Manas.

Vayu

Vayu is considered the cause of existence, production, and destruction. Vata dosha is the prime factor among the Tridosha for controlling the body’s physiological functions. The characteristic feature of Vayu is Sparsha-grahana (among the Tridosha, Pitta and Kapha are immobile, Vayu only mobilizes them).

Ten Qualities of Vayu

  • Sparsha,
  • Sankhya,
  • Parimana,
  • Prithaktwa,
  • Samyoga,
  • Vibhaga,
  • Paratwa,
  • Aparatwą,
  • Samskara,
  • Shabda

Gunas of Vayu: As per different Authors

According toGunas
Karikavali/Prashastapada1) Sparsha, 2) Sankhya, 3) Parimana, 4) Prithaktwa, 5)
Samyoga, 6) Vibhaga, 7) Paratwa, 8) Aparatwa, 9) Samskara.
VaisheshikaSparsha
Charaka1) Sparsha, 2) Chalatva
SushrutaRajo
BhavaprakashaRuksha

Types of Vayu Mahabhuta

Nitya (Paramanurupa),
Anitya (Karyarupa).

The Anitya further divided into – 
Sharira, 
Indriya, 
Vishaya.

  • Sharira Vayu : It is Ayonija Vayu, residing in Vayu loka.
  • Indriya Vayu: Sparshanendriya.
  • Vishaya Vayu: Pranavayu Sanchara – Vriksha or Vastu gati.

Bhavas of Vayu mahabhuta

  • Sparsha,
  • Sparshanendriya,
  • Rukshata (roughness),
  • Sharirika Cheshta,
  • Prerana (initiation),
  • Dihatuvyuha (Tissue division) (As per Charaka)

Its utility in the treatment

  • It is the cause of existence, production, and destruction.
  • It initiates the other dosha (Pitta, Kapha) Dhatu-Mala-Mono dosha, etc.
  • King of roga (Prime cause to produce different diseases).
  • Sheeghra Karyakari (possesses quick activity).
  • It is the cause of the Dharana of Sharira (body built).
  • Cause for all activities of body and mind.
  • Initiates the Sharira and Manas.
  • It is said as life (Prana vayu-sanchara)

Summary of Vayu Nirupana

  • It is one among the Panchamahabhutas and the second Karana dravya.
  • Derived from the Dhatu ”वा गतिगन्धनयोः’ (it exerts pressure and Motability).
  • It is formed from Akasha tanmatra.
  • It has Rajo guna predominantly.
  • It is invisible (Rupa-rahit) but can be experienced with Sparsha.
  • It initiates Sharira and Manas
  • It is the only active principle to motivate or stimulate other Dosha, Dhatu, and Mala.
  • It is the cause of existence, production, and destruction.
  • It possesses 10 qualities – 1)) Sparsha, and 2) Sankhya. 3) Parimana, 4) Prithaktwa, 5) Samyoga, 6) Vibhaga, 7) Paratwa, 8) Aparatwa, 9) Samskara, 10) Shabda.
  • The Bhavas are – 1) Sparsha, 2) Sparshanendriya, 3) Rukshata, 4) Sharira cheshta (activities), 5) Preraka (initiator), 6) Dhathu-vyuhakara (tissue division).
  • Nitya vayu is in Paramanurupa and Anitya vayu is  Karyarupa. Anitya vayu has the following 3 divisions.
    • Sharira vayu present in Vayuļoka.
    • Indriya vayu means Sparshanendria.
    • Vishaya vayu means Prana vayu and air of the atmosphere.

वायु निरुपण

vayu

यह पंचमहाभूतों में से एक है और यह दूसरा करण द्रव्य है। आकाश महाभूत से वायु महाभूत का निर्माण हुआ है

vayu

वायु शब्द ‘वा गतिगणोः’ शब्द से बना है, जिसका अर्थ है कि यह गतिशीलता और दबाव बनाता है।

vayu

यह अव्यक्त है परन्तु स्पर्श आदि से क्रिया का अनुभव किया जा सकता है।

vayu

इसमें मुख्य रूप से रजो गुण होता है, इसलिए यह मानस की शुरुआत कर सकता है।

vayu

इसे अस्तित्व, उत्पादन और विनाश का कारण माना जाता है। शरीर के शारीरिक कार्यों को नियंत्रित करने के लिए त्रिदोष में वात दोष प्रमुख कारक है। वायु की विशिष्ट विशेषता स्पर्श-ग्रहण है (त्रिदोष, पित्त और कफ के बीच स्थिर हैं, वायु केवल उन्हें जुटाता है)।

वायु महाभूत के दस गुण:

  • स्पर्श, 
  • सांख्य, 
  • परिमन, 
  • पृथक्ता, 
  • संयोग, 
  • विभाग, 
  • परत्व, 
  • अपरतवी, 
  • संस्कार, 
  • शब्द

वायु महाभूत के गुण: विभिन्न लेखकों के अनुसार

इनके अनुसारगुण
करिकावली/प्रशस्तपद1) स्पर्श, 2) सांख्य, 3) परिमाना, 4) पृथ्वीकत्व, 5) संयोग, 6) विभाग, 7) परत्व, 8) अपरात्त्व, 9) संस्कार।
वैशेषिकस्पर्श:
चरक1) स्पर्श, 2) चलतत्व
सुश्रुतरजो
भवप्रकाश:रूक्ष

वायु महाभूत के प्रकार

नित्या (परमनुरुपा),
अनित्य (कार्यरूपा)।
अनित्य आगे विभाजित हुआ –

  • शरीर,
  • इंद्रिया,
  • विषय.

शरीरा वायु: यह वायु लोक में रहने वाली अयोनिजा वायु है।
इंद्रिय वायु: स्पर्शेंद्रिय।
विषय वायु: प्रणवयु संचार – वृक्ष या वास्तु गति।

वायु के भाव:

  • स्पर्श,
  • स्पर्शेन्द्रिय,
  • रूक्षता (खुरदरापन),
  • शारिरिका चेष्टा,
  • प्रेरणा (दीक्षा),
  • दिहातुव्यूह (ऊतक विभाजन) (चरक के अनुसार)

वायु महाभूत उपचार में उपयोगिता:

  • यह अस्तित्व, उत्पादन और विनाश का कारण है।
  • यह अन्य दोष (पित्त, कफ) धातु-माला-मोनो दोष, आदि की शुरुआत करता है।
  • रोग का राजा (विभिन्न रोगों को उत्पन्न करने का प्रमुख कारण)।
  • शीघरा कार्यकर्ता (त्वरित गतिविधि रखता है)।
  • यह शरीरा (शरीर निर्मित) की धारणा का कारण है।
  • शरीर और मन की सभी गतिविधियों का कारण।
  • शरीरा और मानस की शुरुआत करता है।
  • इसे जीवन कहा जाता है (प्राण वायु-संचार)

सारांश

  • यह पंचमहाभूतों में से एक और दूसरा करण द्रव्य है।
  • यह धातु ”वा गतिगन्धनयोः” (यह दबाव और गतिशीलता डालता है) से बना है।
  • इसका निर्माण आकाश तन्मात्रा से हुआ है।
  • इसमें मुख्य रूप से रजो गुण होता है।
  • यह अदृश्य है (रूप-रहित) लेकिन स्पर्श के साथ अनुभव किया जा सकता है।
  • यह शरीर और मानस की शुरुआत करता है।
  • अन्य दोषो, धातु और माल को प्रेरित या उत्तेजित करने के लिए यह एकमात्र सक्रिय सिद्धांत है।
  • यह अस्तित्व, उत्पादन और विनाश का कारण है।
  • इसमें 10 गुण हैं – 1)) स्पर्श, और 2) सांख्य। 3) परिमाना, 4) पृथ्वीकत्व, 5) संयोग, 6) विभाग, 7) परत्व, 8) अपरतत्वा, 9) संस्कार, 10) शब्द।
  • भाव हैं – 1) स्पर्श, 2) स्पर्शेन्द्रिय, 3) रूक्षता, 4) शरीर चेष्टा (गतिविधियाँ), 5) प्रेरणा (आरंभकर्ता), 6) धातु-व्युहकार (ऊतक विभाजन)।
  • नित्य वायु परमानुरुप में है और अनित्य वायु कार्यरूप में है। अनित्य वायु के निम्नलिखित 3 विभाग हैं।
    • वायुलोक में मौजूद शरीर वायु।
    • इंद्रिय वायु का अर्थ है स्पर्शेंद्रिया।
    • विषय वायु का अर्थ है प्राण वायु और वातावरण की वायु।

With this, we have finished one more topic of padarth Vigyan notes. If you have any questions or suggestions please feel free to comment below.

Processing…
Success! You're on the list.
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: