Akasha Mahabhuta (आकाश महाभूत)

Topic: Akasha Mahabhuta (आकाश महाभूत)
Subject: Padarth Vigyan Part-I
Chapter: Dravya Nirupana
Course: BAMS First year

Dear learner, Welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will study Akasha Mahabhuta. This topic is part of Padarth Vigyan’s notes, BAMS first-year course. In this third chapter, Dravya Nirupana, we have already covered the following topics:

Related topics from the Dravya nirupana Chapter
Akasha mahabhuta

AKASHA NIRUPANA

Origin: It originates from the Shabda Tanmatra

Synonyms: Gagana, Akasha, Nabha, Nakshatra Loka, Divya Loka, and Vyoma. The word Akasha is derived from the dhathu.

Means, that spread all over. (Sky-Space)

Akasha

Definition/Lakshana of Akasha

Shabda (sound) is the Visheșha guna of Akasha.

Akasha

In the evolution of the creation, at first, Akasha is derived from Atma (supreme soul: 1st Karana dravya)

It predominantly possesses Sattva guna.

Akasha

It possesses Shabda with Samavaya Karana. Akasha is Eka, Vibhu and Nitya. It does not contain qualities like Rupa, Rasa, Sparshá, and Gandha, Akasha cannot be seen, tasted, touched, or smelled.

Akasha is Vibhu or Vyapak (spread), Nitya (eternal or non-transformable), and having concomitant relation with Shabda. It is the root for the production of other basic elements (Vayu > Tej > Jala > Prithvi). Akasha is not Abhava but Sukshma dravya (the subtle).

Akasha

It possesses the qualities of pravesha (entry) and Nishkramana (exit) and it gives Avrakasha for others, hence called Akasha. At the time of Pralaya Prithyi merges in Jala, Jala in Tejas, Tejas in Vayu, and Vayu in Akasha. (Taittirīya Upanishad).

Qualities/Guna of Akasha Mahabhuta

As per Yoga Darshan

  • Avyāhata gati- unobstructed movement
  • Avyūha – non-structural
  • Avashtambha – nòn, resistant

As per Prashastapada

6 qualities are :

  • Shabda (sound),
  • Sankhya (numeral),
  • Parimana (measurable),
  • Prithakțwa (distinguishing factor),
  • Samnyoga (combination),
  • Vibhaga (decomposition).

As per Ayurveda

  • Mriduta (softness),
  • Laghuta (lightness),
  • Sukshmata (minuteness or subtleness),
  • Vishadata (clarity),
  • Vyavayita (spreads quickly then assimilated),
  • Viviktata (porosity),
  • Avyakta rasa (unpėrceptable taste)

Note: In Akāshiya dravya the other basic components are very less in percentage lacunae… are more hence exhibits the above qualities. Acharya Charak has attributed the apratighatava (non-resistance) as the specific quality of Akasha Mahabhuta.

Gunas of Akasha Mahabhuta: As per different Authors

TreatisesGunas
Karikavali/ Prashastapada1) Shabda, 2) Sankhya, 3) Parimana, 4) Prithaktwa, 5) Sarnyoga, 6) Vibhaga
Vaisheshika1) Nishkramana, 2) Praveshana
Charaka1) Shabda, 2) Apratighata
SushrutaSattva
BhavaprakashaLaghu

Akashatmaka bhava

Shabda, Shrotrendriya, Lagutwa, Sukshmata, and Viveka.

Importance of Akasha Mahabhuta in Ayurveda

  • As a precursor of Vata dosha: The combination of Vayu and Akasha Mahabhuta produces the Vata dosha. The Vata dosha is responsible for all types of movement in the body.
  • The formation of Rasa: The Akasha in association with Vayu forms tikta (bitter) rasa.
  • The Akasheeya Bhava: The Akasha Dominates entities in the body are the Sabda (sound), ear, and all the gross and minute channels. Also, the cavities are also Akasha dominant.
  • In the treatment: Smooth substances, minute, Soft, quickly spreading, clear, separating, un-manifested taste and sound dominant are Akash dominant. These substances provide softness, porosity, and lightness to the body.

Summary of Akasha Nirupana

  • It is one among Panchamahabhutas and 1st Karana dravya.
  • It is derived from “कशृ-दीप्तौ” dhatu (the meaning which pervaded all over).
  • It is formed from Atma.
  • It possesses Sattva guna predominantly.
  • Shabda is the Vishesha guna of Akasha.
  • It is Eka (one), Vibhu (vyapaka) and Nitya (eternal).
  • Shabda guna is present in Akasha with Samavayi Karana (inseparable relation).
  • It is the root of the production of other Bhutas.
  • It possesses the Pravesha and Nishkramana qualities.
  • At the time of Pralaya Prithvi merges in Jala, Jala merges in Tejas, Tejas merges in Vayu, and Vayu merges in Akasha.
  • It possesses .6 qualities: Shabda, Sankhya, Parimana, Prithakatwa Samyoga, and Vibhaga.
  • Akashatmak bhavas are i) Shabda, 2) Shrotrendriya, 3) Laghutwa, 4) Sukshamata, and 5) Viveka.

आकाश निरुपण

उत्पत्ति: इसकी उत्पत्ति शब्द तन्मात्रा से हुई है। शब्द आदि पंचतन्मात्राएँ अहंकार से उत्पन्न होती है तथा ये अहंकार आत्मा से उत्पन्न होता है

पर्यायवाची शब्द: गगन, आकाश, नाभा, नक्षत्र लोक, दिव्य लोक और व्योम।
आकाश शब्द की उत्पत्ति काशृ धातु से हुई है।

Akasha

यानी जो चारों तरफ फैल गया। (आकाश-अंतरिक्ष)

Akasha

परिभाषा/लक्षन

जिसका शब्द तन्मात्रा के साथ समवाय सम्बन्ध होता है उसे आकाश महाभूत कहते है।
शब्द (ध्वनि) आकाश का विशिष्ट गुण है।

Akasha

सृष्टि के विकास में, सबसे पहले, आकाश आत्मा (सर्वोच्च आत्मा: प्रथम करण द्रव्य) से प्राप्त होता है।

Akasha

इसमें मुख्य रूप से सत्त्वगुण होता है।

Akasha

इसमें समाव्य करण के साथ शब्द है। यह एक, विभु और नित्या है।
इसमें रूप, रस, स्पर्श और गंध जैसे गुण नहीं हैं, आकाश को देखा, चखा, छुआ या सूंघा नहीं जा सकता।

यह विभु या व्यापक (फैला हुआ), नित्य (शाश्वत या गैर-परिवर्तनीय) है, और शब्द के साथ एक साथ संबंध है। यह अन्य आवश्यक तत्वों (वायु>तेज>जल>पृथ्वी) के उत्पादन का मूल है। यह अभाव नहीं बल्कि सूक्ष्म द्रव्य  है।

Akasha

इसमें प्रवेश  और निष्क्रमण (निकलने) के गुण होते हैं और यह दूसरों के लिए अवकाश देता है, इसलिए इसे आकाश कहा जाता है।
प्रलय के समय पृथ्वी जल में, जल तेजस में, तेजस वायु में और वायु आकाश में विलीन हो जाती है। (तैत्तिरीय उपनिषद)।

आकाश महाभूत के गुण

  • योग दर्शन के अनुसार
    • अव्याहत गति- अबाधित आंदोलन
    • अव्यव – गैर संरचनात्मक
    • अवष्टंभ – अप्रतिरोधक
  • प्रशस्तपाद के अनुसार
    6 गुण, वे हैं:
    • शब्द 
    • संख्या,
    • परिमाण (मापने योग्य),
    • पृथ्क्त्व (विभेदक कारक),
    • संयोग (संयोजन),
    • विभाग (अपघटन)।
  • आयुर्वेद के अनुसार
    • मृदुता (कोमलता),
    • लघुता (हल्कापन),
    • सुक्ष्मता (सूक्ष्मता),
    • विशादता (स्पष्टता),
    • व्यवायिता (जल्दी फैलती है, फिर आत्मसात हो जाती है),
    • विविकता (छिद्रता),
    • अव्यक्त रस (अस्पष्ट स्वाद)।

नोट: आकाश द्रव्य में अन्य मूल घटक प्रतिशत में बहुत कम हैं … अधिक हैं इसलिए उपरोक्त गुणों को प्रदर्शित करते हैं। आचार्य चरक ने अप्रतिघत्व (अप्रतिरोध) को आकाश महाभूत का विशिष्ट गुण बताया है।

आकाश महाभूत के गुण : विभिन्न लेखकों के अनुसार

ग्रंथगुण
करिकावली/प्रशस्तपद1) शब्द, 2) सांख्य, 3) परिमाना, 4) पृथ्वीकत्व, 5) संयोग, 6) विभाग 
वैशेषिक1) निष्क्रमण, 2) प्रवेश:
चरक1) शब्द, 2) अप्रतिघाट:
सुश्रुत:सत्व
भवप्रकाश:लघु

आकाशत्मक भाव

शब्द, श्रोत्रेन्द्रिय, लघुत्व, सूक्ष्मा और विवेक।

आयुर्वेद में आकाश महाभूत का महत्व

  • वात दोष के अग्रदूत के रूप में: वायु और आकाश महाभूत के संयोजन से वात दोष उत्पन्न होता है। वात दोष शरीर में सभी प्रकार की गतिविधियों के लिए जिम्मेदार होता है।
  • रस का निर्माण: आकाश वायु के साथ मिलकर तिक्त (कड़वा) रस बनाता है।
  • आकाशीय भाव: शरीर में पाये जाने वाले सभी प्रकार के स्थूल और सूक्ष्म भाग, वाहिनियाँ, तथा छिद्र आकाश से उत्पन्न होने वाले भाव है। 
  • उपचार में : जो पदार्थ चिकने, सूक्ष्म, मृदु, शीघ्र फैलने वाले, स्पष्ट, पृथक करने वाले, अव्यक्त स्वाद और ध्वनि प्रबल होते हैं, वे आकाश प्रधान होते हैं। ये पदार्थ शरीर को कोमलता, सरंध्रता और हल्कापन प्रदान करते हैं।

आकाश निरुपण का सारांश

  • यह पंचमहाभूतों और प्रथम करण द्रव्य में से एक है।
  • यह “कश्री-दिप्तौ” धातु (जिसका अर्थ चारों ओर व्याप्त है) से लिया गया है।
  • यह आत्मा से बनता है।
  • इसमें मुख्य रूप से सत्त्वगुण होता है।
  • शब्द आकाश का विशेष गुण है।
  • यह एक (एक), विभु (व्यापक) और नित्य (शाश्वत) है।
  • शब्द गुण आकाश में समावयी करण (अविभाज्य संबंध) के साथ मौजूद है।
  • यह अन्य भूतों के उत्पादन का मूल है।
  • इसमें प्रवेश और निष्क्रमण गुण होते हैं।
  • प्रलय के समय पृथ्वी जल में विलीन होती है, जल तेजस में विलीन होती है, तेजस वायु में विलीन होती है, और वायु आकाश में विलीन होती है।
  • इसमें 6 गुण हैं: शब्द, सांख्य, परिमाना, पृथकत्व संयोग और विभाग।
  • आकाशत्मक भाव हैं i) शब्द, 2) श्रोत्रेंद्रिय, 3) लघुत्व, 4) सुक्षमाता, और 5) विवेक।
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: