Dravya (द्रव्य)

Topic: Dravya
Subject: Padarth Vigyan Part-I
Chapter: Dravya Nirupana
Course: BAMS First year

Dear learner, welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will study Dravya and its classification according to Padarth Vigyan. This topic is part of Padarth Vigyan’s notes, BAMS first-year course. In this Third chapter, Dravya nirupana we are starting the first topic.

Dravya

In the following paragraphs, we will learn about dravya nirupana (formation and definition of dravyas ), dravya Lakshana, and the classification of dravyas according to different Darshanas and Acharyas.

Dravya Nirupana

Dravya is the first Bhava Padartha among Shad Padartha as per Vashesika Darshan

 The word Draya is derived from, Dau  Dhatu, yat  pratyaya

  Dravya=  Dru+ yat

 The root meaning of Dravya is Gati or Jnan ar Gaman ar Prapati or Dravati or Gacchati or Parinamakari or Samyoga Vibhagakari etc.

In the creation the Darvya originates, exists, gets transformed into other states, and disappears, hence above wordings are used for the derivation of Dravya.

Padarth Lakshana

  • “यत्राश्रिताः कर्मगुणाः कारणं समवायि यत्। तद् द्रव्यम्”। च॰सू॰ 1.51)
    The Padartha in which Guna and Karma reside with an inseparable relation (Samavayi Karan) that is known as Dravya (Guna and Karma present in Dravya with Samavayl Karana).
  • द्रव्यलक्षणं तु क्रियागुणवत् समवायिकारणमिति। (सु॰सू॰ 40.3)
    Dravya possess Kriya and Guna with Sarnavayi karan (inseparable relation).
  • द्रव्यत्वजातिमत्वं गुणत्वं समवायिकारणत्वं वा द्रव्यसामान्यलक्षणम्।
    Dravya possess the features of Dravyatwa (Dravya jati), Gunatwa (Guna jati) and Samavayitwa.
  • क्रियागुणवत् समवायिकारणमिति द्रव्यलक्षणम्। (वैशेषिक दर्शन १.१५)
    Dravya can be defined as the Padartha present in which Kriya and Guna present inherently with inseparable relation.
  • गुणकर्माश्रयसमवायिकारणमिति द्रव्यलक्षणम्।
    Guna and Karma are known as Ashrayi of Dravya and Dravya is the Ashraya for Guna and Karma, ie. Dravya = Ashraya (Base), Guna Karma Ashrayi (components)

Dravya Vargikaran (Classifications of Dravya)

  1.   Classification as per Karya-Karana 
    • Karya dravya (Anitya),
    • Karana dravya (Nitya)
      Karya dravya
      Subdivision of Karya dravya – into, 2 types, are –
      • Chetan Dravya with Indriya or life (sentient). Ex – Human, Animals, Plants, etc.,
      • Achetan Dravya without Indriya or life or Nirjiva (in sentiment). Ex- Gold, Pearl, etc.

        Chetan is further divided into 2 types, they are-
      • Antashchetan or Sthivara-Life is present inherently but cannot be exposed. Ex Plants.
      • Balirartashchetan or Jangara-The features of life can be exhibited. Ex- Human, Animals, etc.

        Antashchetan is further divided into 4 types, which are
      • Vanaspati – Contains hidden flowers and visible fruits. Ex- Banyan tree, etc.
      • Vănaspatya – Contain visible flowers and fruits. Ex coconut, Ashwagandha, etc.
      • Virudha – The climbers are creep plants. Ex- strawberry and Bitterguard, etc.
      • Aushađha-  Plant destroys after-ripening of fruit. Ex-Godhuma (wheat), Yava, etc.

        Bhahirantashchetan is also further divided into 4 types. They are
      • Jarayuja – Placental origin Ex- Human, Ánimal, etc.
      • Andaja- Egg origin. Ex- Birds, Serpents, etc
      • Swedaja . Sweat origin. Ex-insects, Yuka, Liksha, etc.
      • Udbhija – Soil origin. Ex Fog, indragopa insect etc.
Karya Dravya

 Note: Karya dravya is innumerable but Karana dravya is only 9.

  1. Karana Dravya

 Karana dravya are 9 in number. 

They are :

  • Akasha,
  • Vayu,
  • Tejas,
  • Jala,
  • Prithvi,
  • Atma,
  • Maras
  • Kala,
  • Dik.
    These 9 Karana dravyas are responsible for the production of innumerable Karya dravyas. (Chetan-Achetan)
  •  Along the 9 Karana dravya
    -Prithvi, Jala, Teja, Vayu are Anitya in Karyarupa but Nitya in Paramanurupa.
    -Akasha, Kala. Dik, Manas and Atma are Nitya.
  • 9 Karana dravya are responsible for the production of Murta and Amurta dravya of the universe.
  • Panchabhuta gives the physical body
  • Atma gives Chetanata
  • Manas gives the activating capacity
  • Kala and Dik at responsible for Parinama (Transformation)

 The following examples prove the Cetanata (life) in plants

  • The sunflower plant moves in the direction of the sun. This İs the example of Rupa-siddhi of plants.
  • Bija-puraka plant gives flowers and fruits through fragrance due to  Gandha-siddhi.
  • Lavali plants flowers and fruits after hearing the sound of clouds through Shabd-siddhi.
  • Plant Like Lajja will contract on touch it proves the Sparsha-siddhi.
  • Insectivorous plants like Nepenthes pitcher plant relish the taste of some animals, it is the example of Rasa-siddhi. In addition to above, there are several examples to prove that plants also do have life, pain, pleasure, mind, soul, and sense organs. The same for possessing inherently and for not visualizing from out, the plants are known as Antashchetna.

 Many scholars said that the plants depending upon their previous deeds would take their birth in graveyards etc, the  Scientists count the Antashchetaa of the plants as Muka prani (dumb animals).

Classification of Dravya based on origin. (Utpatti-bedena dravya-vargikaranam)

It is of 3 types, they are

  • Jangama,
  • Bhauma,
  • Audbhida
  • Jangama dravya :
    The dravyas of animal origin are known as Jangama dravya. Ex Milk, Curd, Ghee, Honey, Rakta, Vasa, Majja, Pitta, Charma, and Mutra. 
  • Bhauma (Pärthiva) :
    The dravya is obtained from the deep layers of earth minerals). Ex- Cold, Silver, Iran, etc.
  • Audbhida:
    The dravyas develop on soil (superficial layers) or earth. Ex. The plants or 4 types of Antashchetan dravya.

Classification of Dravyas based on usage ((Prayoga-bhedena dravya-vargikarana)

It is of 2 types

  • Aushada dravya
    1. Virya Pradhana
    2. Taken as medicine
    3. Taken to treat diseases
    4. Used when required
  •  Ahara dravya 
    1. Rasa pradhana
    2. Taken as food
    3. Taken for dhatu or deha-poshan
    4. Used for regular usage

 Classification of Dravyas based on taste (Rasa-bhedena dravya-vargikarana)

It is of Six types- 

  • Madhur-skandha (sweet group)
  • Amla-skandha (sour group)
  • Lavan-skandna (salt group)
  • Katu-skandha (pungent group
  • Tikta-skandha (bitter group)
  • Kashaya-skandha (astringent group)

Classification of Dravyas based on drug effect (Prabhava-bhedena dravyas-vargikaranam)

 It is of 3 types (C.Su 168) 

  • Dosha-shamak     -To alleviate dosha
  • Dhatu-prakopaka    -To provoke dhatus
  • Swasthyakara        -To maintain health.                                            

 Classification of Ahara dravya. 12 types- As per Charaka 

  1. Shuka dhanya varga        -Ex. Shali, Yava, Godhuma, etc.
  2. Shami dhanya varga        -Ex. Masha, Mudga, Kulattha, etc.
  3. Mamsa Varga             -Ex The flesh of Animals, Birds, etc.
  4. Shaka Varga            -Ex Vegetables like Kushmanda, etc.
  5. Phala Varga            -Ex Fruits like Draksha, Kharjura, etc.
  6. Harita Varga             -Ex Greeny items like Ardraka, leaves of             Dhaniya, etc.  
  7. Madya Varga             -Ex Medicated liquors like Sura, Madira, etc. 
  8. Jala Varga             -Ex Different types of water.
  9. Gorasa Varga            -Ex Cow, milk, Ghee, curd, etc.
  10. Ikshu Varga            -Ex products or Sugarcane like Sugar, Jaggery, etc. 
  11. Kritanna varga            -Ex Rice preparation like Manda, Peya, Vilepi etc.
  12. Aharopayogi Varga       -Ex Taila, Hing, Lavan etc.

Classification of Ahara Dravya as per Sushruta

  1. Drava dravya Varga
    Jala varga, Kshira varga, Dadhi varga, Takra varga, Ghrita varga, Taila varga, Madhu varga, Ikshu varga, Mutra varga, Madya varga.
  2. Anna dravya Varga
    Shali Varga, Kudhanya varga, Mudgadi varga, Mamsa varga, Phala varga, Shaka varga, Pushpa varga, Kanda varga, Lavana varga Kritanna Varga, Bhakshya varga, Anupana varga

Classification of Dravya based on Karma

Charaka explained 50 Mahakashaya (C.Su. 4) and Sushruta explained 37 Ganas (S.Su. 38)

Summary of Dravya Vargikarana

Basis of classificationNumbersBhedas
Dravya02Karya Dravya
Karana Dravya
Karya Dravya02Chetan
Achetan
Chetan02Antashchetan
Bahirantashchetan
Antaschetan04Vanaspati
Vanaspatya
Virudha
Aushadhi
Bahirantashchetan04Jarayuja
Andaja
Swedaja
Audbhida
Achetan02Khanija
Kritrima
Utpatti- Bheda03Jangama
Bhauma
Audbhida
Prayoga-bheda02Aushada
Ahara
Rasa-Bheda06Madhura-skandha etc.
Prabhava-bheda03Dosha-shamaka
Dhatu-prakopaka
Swasthyakara
Ahara dravya by Charka1212 group- Shukadhanya Varga, etc.
Ahara dravya by Sushruta02Jala Varga
Anna-dravya varga

द्रव्य

द्रव्य न हो तो अन्य पदार्थों का अस्तित्व ही नहीं होता इसलिए दार्शनिकों ने पदार्थ गणना में प्रथम गणना द्रव्य की कि है। 

द्रव्य की निरूपित एवं व्युत्पत्ति 

“द्रु” गतौ धातु में यत् प्रत्यय जोड़ने से द्रव्य शब्द बनता है।

“द्रवित गच्छति परिणाममितीद्रव्यं”

वह पदार्थ जो परिणाम को प्राप्त होता है अथवा संयोग विभाग को प्राप्त होता है वह द्रव्य कहलाता है। 

जैन दर्शनाकार के अनुसार द्रु धातु से द्रव्य शब्द बनता है। जिसका अर्थ होता है प्रवाहित होना। इस संसार की गति ऐसी है कि सभी पदार्थ उत्पन्न होते है, कुछ समय तक टिकते है, फिर नष्ट हो जाते है। पदार्थों के उत्पन्न और नष्ट होने की प्रक्रिया सतत अपनी गति से प्रवाहित होती रहती है। 

द्रव्य की परिभाषा 

रस, गुण, वीर्य, विपाक, और प्रभाव इन पाँचों का समुदाय द्रव्य कहलाता है। 

द्रव्य के लक्षण 

  • “यत्राश्रिताः कर्मगुणाः कारणं समवायि यत्। तत् द्रव्यम् ।”- च॰सू॰ १/५१
    कर्म और गुण जिसमें (समवाय सम्बन्ध से) आश्रित हो और जो (द्रव्य, गुण, कर्म का) समवायि कारण हो, उसे द्रव्य कहते है। 
    समवायि कारण वह कारण है जो कार्य की सम्पन्नता में अपने को मिलाकर काम सम्पूर्ण करता है। 
  • “क्रियागुणवत् समवायिकारणमिति द्रव्यलक्षणम्” – वै॰ सू॰ 
    अर्थात् द्रव्य वह नित्य भाव पदार्थ है जो क्रिया, और गुण का आधार है तथा अन्यान्य कार्यद्रव्यो का समवायिकारण होता है। 

द्रव्य स्वयं तो अपरिवर्तित रहता है, उसमें कोई परिवर्तन नहीं होता है, लेकिन उसके आश्रित क्रिया और गुण परिवर्तित होते रहते है। द्रव्य के बिना क्रिया और गुण का कोई अस्तित्व नहीं है। जब भी कोई क्रिया होगी या गुण होगा तो वह द्रव्य में ही पाया जायेगा, द्रव्य पर ही आश्रित होगा। 

द्रव्य की विशेषतायें 

  • द्रव्य भाव पदार्थ है, क्योंकि उसकी सत्ता है, 
  • द्रव्य नित्य पदार्थ है। 
  • द्रव्य क्रिया और गुण का आधार है। 

द्रव्य संख्या एवं वर्गीकरण 

“खादीन्यात्मा मनः कालो दिशाश्च द्रव्यसंग्रहः” -च॰सू॰ १.४८

आकाश, जल, वायु, अग्नि, पृथ्वी, आत्मा, मन, काल, दिशा – ये ९ द्रव्य है। ये कारण द्रव्य भी कहलाते है। सांख्य, योग, वेदांत ने पंचमहाभूत तथा मन को प्रकृति के अन्तर्गत माना है। आत्मा को सांख्य ने पुरूष कह कर सम्बोधित किया है। आयुर्वेद तथा अन्य सभी मतों ने नव द्रव्यों को माना है। 

वर्गीकरण 

  • कारण-कार्य द्रव्य 
  • कारण द्रव्य 

पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश आत्मा, मन, दिशा और काल-ये ९ कारण द्रव्य है। 

इनमें से आकाश, आत्मा, मन, काल और दिशा – ये नित्य है। तथा पृथ्वी, वायु, जल, अग्नि- ये चार द्रव्य परमाणु रूप में नित्य एवम् कार्य रूप में अनित्य है।

  • कार्य द्रव्य 

                “सेन्द्रियं चेतनं द्रव्यम् निरिन्द्रयमचेतनम्”

चेतन (सेन्द्रिय) और अचेतन (निरिन्द्रिय) भेद के साथ कार्य द्रव्य दो प्रकार के होते है। 

  • चेतन्य द्रव्य 

वे द्रव्य जो जीवित शरीर वाले होते है तथा इनमें जीवन का लक्षण चेतन्य पाया जाता है। उदाहरण- मनुष्य, वृक्ष, जन्तु आदि। 

चेतन्य द्रव्य भी दो प्रकार के होते है। 

  • अन्तश्चेतन 
  • बाह्याभ्यन्तर चेतन
  • अन्तश्चेतन – इनके भीतर से ज्ञान व सुख दुख का अनुभव होता है परन्तु वे उसे व्यक्त नहीं कर पाते और अपने उप्र होने वाले आक्रमण को रोकने में असमर्थ होते है जैसे- 
    • लाज्जवन्ति को छूने से वह सिकुड़ जाता है जिससे उसमें स्पर्श का ज्ञान होता है। 
    • सूर्यमुखी का पुष्प सूर्य की दिशा के अनुसार घूमता है जिससे उसमें दिशा ज्ञाता होता है। 
    • लवली में मेघ के दर्जन से फल लगता है जिससे उसमें श्रवण शक्ति के होने का ज्ञान प्राप्त होता है। 
    • बिंजौरा नींबू के वक्ता जड़ में श्र्गाल आदि की वसा डालने से उसमें फल लगता है अतः उसमें घ्राणेन्द्रिय ज्ञान होने का पता चलता है।

इन उदाहरणों से वनस्पतियों में होने वाली प्रतिक्रियाओं से अन्तश्चेतन का ज्ञान होता है। 

अन्तश्चेतन द्रव्य के निम्न चार भेद होते है। 

  • वनस्पति- इसमें पुष्प अपनी कणिकाओं द्वारा ढके रहते है इस कारण वो दिखाई नहीं देते। जैसे वट, गुल्लर आदि। 
  • वानस्पतय: इनमें फल व फूल दोनों प्रत्यक्षदर्शियों से दिखाई देते है- आम, जामुन आदि। 
  • औषध- फल पकने पर जो नष्ट हो जाये वह औषधि है जैसे- गेहूँ, जौ, चना, आदि। 
  • वीरूध- इनकी लताएँ फैलती हैं अथवा गुल्म के रूप में होती है, जैसे- ग़ुरूच आदि। 

बाह्याभ्यन्तर चेतन- इनमें चेतना बाह्य और आभ्यन्तर दोनों प्रकार से व्यक्त होती है। इसके भी चार भेद है-

  • जरायुज- जरायु से जन्म लेने वाले जरायुज कहे जाते है जैसे- मनुष्य आदि
  • अण्डज- अण्डों से जन्म लेने वालों की संज्ञा अण्डज है जैसे- सर्पादि। 
  • स्वेदक- स्वेद से उत्पन्न होने वाले स्वेदज कहलाते है जैसे कृमि, कीट आदि। 
  • उद्भिज्ज- पृथ्वी के भीतर से नीकलने वाले द्रव्य तो उद्भिज्ज कहते है, जैसे इन्द्रगोप, आदि। 

अचेतन द्रव्य 

ये इन्द्रिय रहित होने के से मृत शरीर वाले होते है और इनमें चेतन्य नहीं होता है। जैसे- निर्जीव सुवर्ण, पार्थिव खनिज आदि अचेतन होते है। 

द्रव्यों के अन्य भेद

  1. योनि भेद- द्रव्य निम्न तीन प्रकार के होते है—
    • जाड्गम या जान्तव द्रव्य- कस्तूरी, गोरेचन, दूध आदि
    • वानस्पतिक द्रव्य- गोधूम, यव, आँवला आदि
    • भौम या पार्थिव द्रव्य- गन्धक, पारा, धातुएँ 
  2. प्रयोग के भेद से दो प्रकार के द्रव्य माने जाते है। 
    • औषध द्रव्य- इनके प्रयोग से शरीर में शीत, उष्ण आदि गुणों का आधान होता है। 
    • आहार द्रव्य- इनके प्रयोग से शरीर के रस आदि धातुओं का पोषण होता है। 
  3. रस भेद से द्रव्य छह प्रकार के होते हैं 
    • मधुरस्कन्ध
    • अल्मस्कन्ध
    • लवणस्कन्ध
    • कटुस्कन्ध
    • तिक्त्तस्कन्ध
    • कषायस्कन्ध
  4. दोषकर्म एवं स्वस्थवृत भेद से द्रव्य तीन प्रकार के होते है-
    • दोषप्रशमक
    • धातुप्रदूषक
    • स्वास्थयकारक
  5. आहारद्रव्य भेद से- चरक ने आहार द्रव्यों को निम्न १२ वर्गों में विभाजित किया है-
    • शूकधान्य- शालि, यव, गोधूम
    • शमीधान्य- मुद्ग, माष, कुलत्थ
    • मांस- प्रसह, भूमिशय, वारिशय, वारिचर, जांगल, विष्किर, प्रतुद। 
    • शाक- मकोय, चौराई, त्रपुष, सरसों 
    • फल- मुन्नका, खर्जूर। 
    • हरित- अदरक, नींबू, मूली 
    • मद्य- अरिष्ट, आसव, सुरा 
    • जल- दिव्य, भौम 
    • गोरस- गोदुग्ध, माहिषक्षीर, दधि, धृत
    • इक्षु- इक्षुरस, गुड़, मधु, चीनी 
    • कृतान्न – पेया, विलेपी, मण्ड, सत्तू आदि
    • आहारोपयोगी- तैल, लवण, हींग। 

With this, we have finished one more topic of padarth Vigyan notes. If you have any questions or suggestions please feel free to comment below.

Processing…
Success! You're on the list.
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: