Ayurveda- a unique and independent school of Darshan

Topic: Ayurveda as a unique and independent school of thought (philosophical individuality of Ayurveda)
Subject: Padarth Vigyan Part-I
Chapter: Ayurveda Darshana Nirupana
Course: BAMS First year

Dear learner, Welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will study Ayurveda as a unique and individual Darshan. This topic is the part of Padarth Vigyan’s notes, BAMS first-year course. In this second chapter, Ayurveda Darshna Nirupana, we have already covered the following topics:

Ayurveda- a unique and independent Darshan

The influence of all darshans on Ayurveda can be seen. But Ayurveda, having its own philosophical base and differing views, becomes an independent philosophy.

Ayurveda, padarth vigyan noted, independent darshan

Aims and Objectives

Like other Astika Darshana, Ayurveda also has its main subject medicine. The main purpose of Ayurveda is to protect the health of the healthy and eradicate the disease of the diseased. Ayurveda is a sub-Veda of Atharvaveda. The Darshana however aims to eradicate the sufferings of the world once and for all by attaining the Moksa/Liberation. So in spite of the unity of the two, both maintain their unique traits.

Also, the main purpose of Ayurveda is to maintain a balance between the mind, soul, body, and senses by achieving salvation along with the prevention of diseases.

Pramana as Pareeksa

In Darshana, the Pramanas were described to acquire knowledge of the Tatwas (Realms) and possess specific knowledge about evolution. But according to Ayurveda, the Pramanas are useful in the examination of a patient, diagnosis of the disease, and treatment aspect. Charaka in the Fourth chapter of Vimana sthana, states that the means Anumana, Aptopadesha, and Pratyaksha are essential for getting the specific knowledge of the relation between the patient and the disease. A doctor can neither examine a patient nor diagnose the disease without the help of 3 Pramanas collectively. Likewise, the description of Pramanas in Ayurveda is entirely different than that of Darshana which is more theoretical.

The Sadh Padarth as Sadh Karan (Six causative factors)

The six padarth/categories of Vaisesika Darshana have been termed as six causative factors known as Sadh Karana in Ayurveda. Moreover, there is a sequential alteration in these six categories which justifies the independent thought of Ayurveda. Vaisesika Darshana states that Pramanas were described to prove the Samanyadi Sat Padarthas. But Ayurveda states that Sadh Padarthas are very useful to maintain swasth avastha or a healthy state and to cure the diseases. Charaka opines that Samnanya and other Padarthas are the causative factors for Dhatu Vaisamya as well as Dhatu Samya.

In Ayurveda, the Samanya is placed at the first position as it is the factor for increase which in fact is the cause of the disease that demands Ayurvedic interference. The Vesesika on the other hand places the dravyas as the first category considering it the substratum and the base of the other categories which is in accordance with its aim of attaining liberation. This difference of opinion reaffirms the Independent nature of Ayurveda

The acceptance of Indriya as Panchabhautika

Even though Charaka followed the evolution theory of Sankhya, out of the 25 Tatwas, he mentioned 24 Tatwas Only. Ayurveda described that Indriyas are born out of Pancamahabhutas, whereas in Samkhya Darshana they are born out of Ahamkara. The indriya if consider ahamkarika become untreatable while bhautikatva makes them treatable through the use of Panchabhautika medicines. This is a valuable basic contribution of Ayurveda toward the attainment of health. Charaka correlated them to a healthy state, the manifestation of diseases and treatment, etc.

Up-gradation of the Manas, the Manovijnana

Manas expounded in the Darshana has been developed as an indispensable branch of medicine under Manovijnana. The Manas is said to be one of the sites of the disease and the sharira and manas are said to complement each other. The treatment of the manoroga (mental/psychiatric disorder) has been explained in the Ayurveda as a Sattvavajaya chikitsa. Contemporary science also accepts the psyche as an important entity malfunction that leads to a number of diseases.

Dharma

The Ayurveda classics have stressed the Dharma which is an integral part of the Darshana. But the Dharma in the Ayurveda has been associated with the medical ethics of Achara. All the renowned Acharyas of Ayurveda have envisaged the strict adherence to the medical ethics that are obligatory for the proper doctor-patient relationship which suits this noble profession.

Paramatma/Brahma/Atma

The Ayurveda like the Vedanta Darshana approves of the existence of the Paramatma. But is in the agreement with its aim and objectives. Ayurveda adopts a rational approach. The Lakshna and Atma are explained in a scientific and practical manner. The Atma is said to be the cause of Life and the exodus of the same from the living body is considered death. This approach reaffirms the independent and pragmatic approach of Ayurveda.

To conclude, Ayurveda though influenced by the various philosophies, has retained its independent position as its vision is novel in tandem with its aims and objectives revolving around the achievement of health. The pragmatic approach of Ayurveda revolves around the concepts of health maintenance while the philosophical tenets deal with spirituality as their core issue. Also. Ayurveda is mainly the Astika individual Darshan as the seers have vehemently refuted the Nastika darshan.

आयुर्वेद- एक अनूठा और स्वतंत्र दर्शन

आयुर्वेदिक दर्शंन पर सभी दर्शनों का प्रभाव देखा जा सकता है। लेकिन आयुर्वेद का अपना दार्शनिक आधार और अलग-अलग विचार होने के कारण यह एक स्वतंत्र दर्शन बन जाता है।

अभिप्राय और उद्देष्य

अन्य अस्तिका दर्शन की तरह आयुर्वेद में भी इसकी मुख्य विषय औषधि है। आयुर्वेद का मुख्य उद्देश्य स्वस्थ लोगों के स्वास्थ्य की रक्षा करना और रोगी के रोग का उन्मूलन करना है। आयुर्वेद अथर्ववेद का एक उपवेद है। जबकि दर्शन का उद्देश्य मोक्ष / मुक्ति प्राप्त करके दुनिया के दुखों को हमेशा के लिए मिटा देना है। इसलिए दोनों की एकता के बावजूद, दोनों अपने अद्वितीय गुणों को बनाए रखते हैं।
साथ ही, आयुर्वेद का मुख्य उद्देश्य रोगों की रोकथाम के साथ-साथ मोक्ष प्राप्त करके मन, आत्मा, शरीर और इंद्रियों के बीच संतुलन बनाए रखना है।

परीक्षा के रूप में प्रमाण का प्रयोग

दर्शन में, प्रमाणों को तत्वों का ज्ञान प्राप्त करने और विकास के बारे में विशिष्ट ज्ञान प्राप्त करने के लिए वर्णित किया गया था। लेकिन आयुर्वेद के अनुसार, रोगी की जांच, रोग के निदान और उपचार के पहलू में प्रमाण उपयोगी होते हैं। चरक ने कहा है कि रोगी और रोग के बीच संबंध का विशिष्ट ज्ञान प्राप्त करने के लिए अनुमान, आप्तोपदेश और प्रत्यक्ष प्रमाण आवश्यक हैं। एक चिकित्सक तीन प्रमाणों की सामूहिक सहायता के बिना न तो रोगी की जांच कर सकता है और न ही रोग का निदान कर सकता है। इसी तरह, आयुर्वेद में प्रमाणों का वर्णन दर्शन की तुलना में पूरी तरह से अलग है जो कि अधिक सैद्धांतिक है।

षट् पदार्थ षट् कारण के रूप में (छह कारक)

वैशेषिक दर्शन के छह पदार्थ/श्रेणियों को आयुर्वेद में साध करण के रूप में जाना जाने वाला छह कारक कहा गया है। इसके अलावा, इन छह श्रेणियों में क्रमिक परिवर्तन होता है जो आयुर्वेद के स्वतंत्र विचार को सही ठहराता है। वैशेषिक दर्शन में कहा गया है कि समन्यादि षट् पदार्थों को सिद्ध करने के लिए प्रमाणों का वर्णन किया गया था। लेकिन आयुर्वेद में कहा गया है कि स्वस्थ अवस्था या स्वस्थ अवस्था को बनाए रखने और रोगों को ठीक करने के लिए षट् पदार्थ बहुत उपयोगी होते हैं। चरक का मत है कि समान्य और अन्य पदार्थ धातु वैसाम्य के साथ-साथ धातु सम्य के कारक कारक हैं।
आयुर्वेद में, सामान्य को पहले स्थान पर रखा गया है क्योंकि यह वृद्धि का कारक है जो वास्तव में उस रोग का कारण है जो आयुर्वेदिक हस्तक्षेप की मांग करता है। दूसरी ओर वैशेषिक दर्शन द्रव्यों को पहली श्रेणी के रूप में रखती है, इसे आधार और अन्य श्रेणियों का आधार मानते हैं जो कि मुक्ति प्राप्त करने के अपने उद्देश्य के अनुसार है। राय का यह अंतर आयुर्वेद की स्वतंत्र प्रकृति की पुष्टि करता है

पंचभौतिक रूप में इंद्रियों की स्वीकृति

भले ही चरक ने सांख्य के विकास सिद्धांत का पालन किया, लेकिन 25 तत्वों में से उन्होंने केवल 24 तत्वों का उल्लेख किया। आयुर्वेद में वर्णित है कि इंद्रियों का जन्म पंचमहाभूतों से हुआ है, जबकि सांख्य दर्शन में वे अहंकार से पैदा हुए हैं। यदि अहंकार को इंद्रिय माना जाए तो वह लाइलाज हो जाता है जबकि भौतिकतत्व, पंचभौतिक दवाओं के उपयोग के माध्यम से उन्हें उपचार योग्य बनाता है। यह स्वास्थ्य प्राप्ति की दिशा में आयुर्वेद का एक बहुमूल्य मौलिक योगदान है। चरक ने उन्हें स्वस्थ अवस्था, रोगों की अभिव्यक्ति और उपचार आदि से जोड़ा है।

मानस का उन्नयन, मनोविद्या

दर्शन में वर्णित मानस को मनोविद्या के अंतर्गत औषधि की एक अनिवार्य शाखा के रूप में विकसित किया गया है। मानस को रोग के स्थलों में से एक कहा जाता है और कहा जाता है कि शरीर और मानस एक दूसरे के पूरक हैं। मनो-रोग (मानसिक/मानसिक विकार) के उपचार को आयुर्वेद में सत्त्ववजय चिकित्सा के रूप में समझाया गया है। समकालीन विज्ञान भी मानस को एक महत्वपूर्ण इकाई के रूप में स्वीकार करता है जो कई बीमारियों की ओर ले जाता है।

धर्म

आयुर्वेद ग्रंथों ने धर्म पर जोर दिया है जो दर्शन का एक अभिन्न अंग है लेकिन आयुर्वेद में धर्म आचार्य की चिकित्सा नैतिकता से जुड़ा है। आयुर्वेद के सभी प्रसिद्ध आचार्यों ने चिकित्सा नैतिकता का कड़ाई से पालन करने की परिकल्पना की है जो उचित चिकित्सक-रोगी संबंध के लिए अनिवार्य है जो इस महान पेशे के अनुरूप है।

परमात्मा/ब्रह्मा/आत्मा

वेदांत दर्शन की तरह आयुर्वेद भी परमात्मा के अस्तित्व को स्वीकार करता है, लेकिन अपने उद्देश्य और उद्देश्यों के अनुरूप है। आयुर्वेद एक तर्कसंगत दृष्टिकोण अपनाता है। लक्षण और आत्मा को वैज्ञानिक और व्यावहारिक तरीके से समझाया गया है। आत्मा को जीवन का कारण कहा गया है और जीवित शरीर से उसी का पलायन मृत्यु माना जाता है। यह दृष्टिकोण आयुर्वेद के स्वतंत्र और व्यावहारिक दृष्टिकोण की पुष्टि करता है।

आयुर्वेद ने हालांकि विभिन्न दर्शनों के प्रभावित होकर अपनी स्वतंत्र स्थिति बरकरार रखता है। आयुर्वेद का व्यावहारिक दृष्टिकोण स्वास्थ्य रखरखाव की अवधारणाओं के इर्द-गिर्द घूमता है, जबकि दार्शनिक सिद्धांत आध्यात्मिकता को अपना मूल मुद्दा मानते हैं। इसके अलावा आयुर्वेद मुख्य रूप से अस्तिका व्यक्तिगत दर्शन है क्योंकि संतों ने नास्तिक दर्शन का जोरदार खंडन किया है।

With this, we have finished one more topic of padarth Vigyan notes. If you have any questions or suggestions please feel free to comment below.

,

Processing…
Success! You're on the list.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: