BUDDHA DARSHANA (बौद्ध दर्शन)

Topic: Buddha Darshana
Subject: Padarth Vigyan Part-I
Chapter: Ayurveda Darshana Nirupana
Course: BAMS First year

Dear Learners, Welcome to Sanskrit Gurukul. In this post of Padarth Vigyan notes, we will learn about BUDDHA Darshna and its similarity/ influence on Ayurveda. In this series, we have already covered the following topics,

Buddha Darshan, padarth vigyan notres, bams, sanskrit gurukul,

BUDDHA DARSHANA

It is Nastika Darshana (Astika-Nastika), propounded by Gautam Buddha of 7th century B.C. This philosophy became religion and spread in entire Asia. Though it is a heterodox philosophy most Hindus became Buddhist due to its moral values, ethics, and rigid principles.

सर्व क्षणिकं क्षणिकं।

बौद्ध दर्शन
DarshnaBuddha Darshna
Creator Gautam Buddha
PramanPratyaksha and Anumana
DravyaPrani (Living beings), Paramanu (Atoms), Akasha, Kala.
Visheshta The world is sorrowful, the cessation of suffering is through salvation.
It considers the world to be dependent on dependent emancipation, that is, the world moves according to its own reasons, it does not expect any conscious
SchoolsVaibhIshika, Sautrantika, Madhyamika or Shunyawada, Yogachara or Vijnanawada.

The Buddha is worshipped as an incarnation of God.

  •  It is –
    1. Anishwaravada (Don’t believe God).
    2. Avedavacla (Don’t accept the authenticity of Veda).
    3. Anatamavada (No separate Atma other than body).
    4. Swabhavavada (Occurance and functioning of creation are natural).
    5. Shunyavada (Universe is unreal).
    6. Kshanabhanguravada (Universe is destructible and not stable).
  • The people who utilize or think with their Buddil or Viveka (intellect) are known as Buddhists and the religion is known as Buddhism.
  • Buddhists believe that worshipping god by ignoring fellow beings is foolish and useless. Desires are the cause of miseries. Controlling the desires gives happiness. Nirvana is the final solution for the relief of miseries.

Propagation of Buddha-Trika as

  • Buddham sharanam gacchami (belief in Buddhism).
  • Sangham sharanam gacchami (live for social welfare).
  • Dharmam sharanam gacchami (dharma palana).

Propagation of 4 Arya-Sutra

  •  Human Iife is miserable (Duhkhamayam).
  • Desires are the cause of miseries (Trishna is Duttkha-Karan).
  • Devoid of miseries is by control of desires (Duhkha-nivritti is by Trishnanigraha).
  • Following Ashta-marga is explained for Trishnanigraha for Duttkha-nirodha.

The Ashta Dharma or Marga of Buddha Darshana

  • Samyak Drishti or jnana (right perception of knowledge).
  • Samyak sankalpa (right thinking).
  • Samyak vak (right speech).
  • Samyak Karma (right action)
  • Samyak vritti (right profession).
  • Samyak prayatna (right efforts).
  • Samyak Smriti (good memory).
  • Samyak dhyana or samadhi (right concentration).
  • It believes in 2 Pramanas (Pratyaksha and Anumana).
  • It believes 4 Prameyas or Padarthas for creation. They are
    1. Prani (Living beings)
    2. Paramanu (Atoms)
    3. Akasha
    4. Kala.
  • Advice not to trouble the body in the name of Tapas, but there is a need for the following,
    1. Pavitra-Vartan (Good conduct)
    2. Dharma-palana (Good deeds)
    3. Ahimsa (non-violence).

School of Buddhism

The teachings of Buddha were oral, later on, his disciples propagated them with added interpretations. It is developed in 2 traditions – Hinayana and Mahayana.

  1. Heenayana – Sthavirawada or arvastiwada. It is the path of self-help, becoming an ideal saint is the ultimate goal.
    • It is having 2 branches –
      1. VaibhIshika
      2. Sautrantika.
  2. Mahayana – Bodhisattva works for others’ welfare. Nirvana is the ultimate goal.
    • It is also having 2 branches –
      1. Madhyamika or Shunyawada,
      2. Yogachara or Vijnanawada.

Buddhism developed in 4 branches. There are nearly 18 branches, among them 4 are important – 1) Vaibildshika, 2) Sautrantika, 3) Madhyamika or Shuryawada, and 4) Yogachara Vijnanawada.

  • Vaibhashika It comes under Hinayana, believe Shastra, believe Bahya dravya as Pratyaksha, accepted 2 Pramanas (Pratyaksha, Anumana), accepted the theory of Sarvastiwadin, the things produced by Swabhava, Kshanika and are transformative in nature.
  • Sautrantika It also comes under Hinayana, believes Sutra than Shastra, believe the Bahya dravya as Anumeya, the dravya are produced by Swabhava and they are Sattatmaka.
  • Madhyamika or Shunyawad: It comes under Mahayana, the theories are the medium type to above, hence it is named. The world is transformative or Kshanika or Shunya (no eternity or sthayitwa) and the Vairagya is said as Moksha.
  • Vijnanawada or Yogachara: It also comes under Mahayana, knowledge is true, and the world is Kshanika, and dream-like. It believes in Yoga for the realization of pure knowledge. Hence called Yogachara.

Similarities between Buddha Darshana and Ayurveda

  • Buddha accepted 2 Prama though accepted 4 Pramanas, given prime importance for the above 2 Pramanas).
  • The theory of rebirth (Punarjanma).
  • Theory of Karma-Phala (fate)
  • Theory of Karya-kara.Nevada (Theory of cause and effect).
  • Duhkhawnivritti (removal of miseries is the prime aim.
  • Role of Paramanu in the formation of creation.
  • Description of Sadvritta (health principles).
  • Service to humans is the prime aim.
  • Role of Dharma for happiness.
  • Role of Buddhi or Vivek in the perception of actual knowledge.
  • Bhutadaya (merry on animals).
  • Ahimsa Paramo Dharma (the practice of Non-violence) etc are similar to Buddhism and Ayurveda.

बौद्ध दर्शन

यह सातवीं शताब्दी ईसा पूर्व के गौतम बुद्ध द्वारा प्रतिपादित नास्तिक दर्शन (अस्तिका-नास्तिका) है। यह दर्शन धर्म बन गया और पूरे एशिया में फैल गया। हालांकि यह एक नास्तिक दर्शन है, अधिकांश हिंदू इसके नैतिक मूल्यों, नैतिकता और कठोर सिद्धांतों के कारण बौद्ध बन गए।

सर्व क्षणिकं क्षणिकं।

बौद्ध दर्शन
प्रवर्तकगौतम बुद्ध
प्रमाणप्रमाण प्रत्यक्ष, अनुमान
वाद क्षणभंगुरवाद, असत्कार्यवाद
द्रव्यआकाश, काल, परमाणु, जीव
साम्प्रदायवैभीषिका, सौत्रान्तिका, मध्यमिका या शून्यवाद, योगाचार या विज्ञानवाद
विशेषतासंसार दुःखमय है, दुख की निवृत्ति मोक्ष से है।
यह जगत को प्रतीत्य समुत्वाद पर आश्रित मानता है अर्थात् जगत अपने कारणों से स्वभावनुसार चलता है वह किसी चेतन की अपेक्षा नहीं करता

बुद्ध को भगवान के अवतार के रूप में पूजा जाता है।

  • यह –
    1. अनीश्वरवाद (भगवान पर विश्वास मत करो)।
    2. अवेदवक्ला (वेद की प्रामाणिकता को स्वीकार नही करता)।
    3. अनातमवाद (शरीर के अलावा कोई अलग आत्मा नहीं है)।
    4. स्वभाववाद (सृष्टि की घटना और कार्यप्रणाली स्वाभाविक है)।
    5. शून्यवाद (ब्रह्मांड असत्य है)।
    6. क्षणाभांगुरवाद (ब्रह्मांड नाशवान है और स्थिर नहीं है)।
  • जो लोग अपने बुद्ध या विवेक (बुद्धि) के साथ उपयोग करते हैं या सोचते हैं उन्हें बौद्ध के रूप में जाना जाता है और धर्म को बौद्ध धर्म के रूप में जाना जाता है।
  • बौद्धों का मानना है कि अपने साथी की उपेक्षा करके भगवान की पूजा करना मूर्खता और बेकार है।
  • इच्छाएं ही दुखों का कारण हैं।
  • इच्छाओं पर नियंत्रण करने से सुख मिलता है।
  • निर्वाण दुखों के निवारण का अंतिम उपाय है।

बुद्ध-त्रिका का प्रचार

  • बुद्धम शरणं गच्छामि (बौद्ध धर्म को मानना)
  • संघम शरणं गच्छामि (सामाजिक कल्याण के लिए जीना)
  • धर्मं शरणं गच्छामि (धर्म पालना)।

4 आर्य-सूत्र का प्रचार

  • मानव जीवन दयनीय है (दुखमायम)।
  • इच्छाएं दुखों का कारण हैं (तृष्णा दुखाकरण हैं)।
  • दुखों से निवारण, इच्छाओं पर नियंत्रण है (धुखनिवृत्ति त्रिष्णनिग्रह द्वारा है)।
  • दुख-निरोध के लिए तृष्णानिग्रह के लिए अष्ट-मार्ग का वर्णन किया गया है।

अष्ट धर्म या बौद्ध धर्म का मार्ग

  • समन्यक द्रष्टि या ज्ञान (ज्ञान की सही धारणा)।
  • सम्यक संकल्प (सही सोच)।
  • सम्यक वाक् (सही भाषण)।
  • सम्यक कर्म (सही कर्म)
  • सम्यक वृत्ति (सही पेशा)।
  • सम्यक प्रार्थना (सही प्रयास)।
  • सम्यक स्मृति (सही स्मृति)।
  • सम्यक ध्यान या समादी (सही एकाग्रता)।
  • यह 2 प्रमाणों (प्रत्याक्ष और अनुमन) को मानता है।
  • यह सृजन के लिए 4 प्रामेय या पदार्थों को मानता है। वो हैं
    • प्राणि (जीवित प्राणी)
    • परमाणु
    • आकाश
    • काल।
  • तप के नाम पर शरीर को कष्ट न देने की सलाह, पर निम्न की आवश्यकता है,
    • पवित्रावर्तन (अच्छे आचरण)
    • धर्म पालन (अच्छे कर्म)
    • अहिंसा

बौद्ध धर्म की परंपरायें

बुद्ध की शिक्षाएँ मौखिक थीं, बाद में उनके शिष्यों ने अतिरिक्त व्याख्याओं के साथ इसका प्रचार किया।
इसे 2 परंपराओं में विकसित किया गया है – हीनयान और महायान।

  1. हीनयान – स्थविरवाद या अर्वस्तिवाद। यह स्वयं सहायता का मार्ग है, आदर्श संत बनना ही परम लक्ष्य है।
    • इसकी 2 शाखाएँ हैं –
      1. वैभीषिका
      2. सौत्रान्तिका।
  2. महायान – बोधिसत्व दूसरों के कल्याण के लिए कार्य करता है। निर्वाण अंतिम लक्ष्य है।
    • इसकी 2 शाखाएँ भी हैं –
      1. मध्यमिका या शून्यवाद,
      2. योगाचार या विज्ञानवाद।

बौद्ध धर्म 4 शाखाओं में विकसित हुआ। लगभग 18 शाखाएँ हैं, उनमें से 4 प्रमुख हैं – 1) वैभीषिका, 2) सौत्रान्तिक, 3) मध्यमिका या शून्यवाद, 4) योगाचार या विज्ञानवाद।

  • वैभाषिक- यह हीनयान के अंतर्गत आता है, शास्त्र को मानता है, बह्य द्रव्यों को प्रत्यक्ष के रूप में मानते हैं, 2 प्रमाणों (प्रत्याक्ष, अनुमना) को स्वीकार करते हैं, सर्वस्तिवादी के सिद्धांत को स्वीकार करते हैं, स्वभाव, क्षनिका द्वारा निर्मित चीजें और प्रकृति में परिवर्तनकारी हैं।
  • सौत्रान्तिक यह भी हीनयान के अंतर्गत आता है, शास्त्र की तुलना में सूत्र को मानते हैं, बह्य द्रव्य को अनुमेय मानते हैं, द्रव्य स्वभाव द्वारा निर्मित होते हैं और वे सत्तत्मक हैं।
  • मध्यमा या शून्यवाद: यह महायान के अंतर्गत आता है, सिद्धांत ऊपर से मध्यम प्रकार के होते हैं, इसलिए इसका नाम रखा गया है। दुनिया परिवर्तनकारी है या क्षनिका या शून्य (कोई अनंत काल या स्थिरत्व नहीं) है और वैराग्य को मोक्ष कहा जाता है।
  • विज्ञानवाद या योगाचार: यह भी महायान के अंतर्गत आता है, ज्ञान सत्य है, जगत् क्षनिका है, और स्वप्न जैसा है। यह शुद्ध ज्ञान की प्राप्ति के लिए योग को मानता है। इसलिए योगाचार कहा जाता है।

बौद्ध धर्म और आयुर्वेद की समानता

  • बुद्ध ने 2 प्रमाण स्वीकार किए, हालांकि 4 प्रमाण स्वीकार किए, उपरोक्त 2 प्रमाणों के लिए प्रमुख महत्व दिया गया
  • पुनर्जन्म का सिद्धांत (पुनर्जन्म)।
  • कर्मफल का सिद्धांत (भाग्य)
  • कार्य-कारा.नवाद का सिद्धांत (कारण और प्रभाव का सिद्धांत)।
  • दुःखवनिवृति (दुख को हटाना) मुख्य उद्देश्य है।
  • सृष्टि के निर्माण में परमाणु की भूमिका।
  • सदव्रत (स्वास्थ्य सिद्धांत) का विवरण।
  • मानव सेवा ही मुख्य उद्देश्य है।
  • खुशी के लिए धर्म की भूमिका।
  • वास्तविक ज्ञान की धारणा में बुद्धि या विवेक की भूमिका।
  • भूतदया (पशु पर दया)।
  • अहिंसा परमो धर्म (अहिंसा ही परम धर्म है) आदि बौद्ध धर्म और आयुर्वेद में समान हैं।

In the next lesson, we will learn more about AYURVEDA. If this post helps you in understanding the Padarth vigyan and Buddha Darshana better, please like and share the post. It will keep us motivated. For any query and question please comment below and will try to solve it asap. अगले पाठ में हम आयुर्वेद बारे में और जानेंगे। अगर यह पोस्ट आपको पदार्थ विज्ञान और बौद्ध दर्शन को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है, तो कृपया पोस्ट को लाइक और शेयर करें। यह हमें प्रेरित करता रहेगा। किसी भी प्रश्न और प्रश्न के लिए कृपया नीचे टिप्पणी करें और इसे जल्द से जल्द हल करने का प्रयास करेंगे।

,

Processing…
Success! You're on the list.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: