Jain Darshana (जैन दर्शन)

Topic: Jain Darshana
Subject: Padarth Vigyan Part-I
Chapter: Ayurveda Darshana Nirupana
Course: BAMS First year

Hello Learners, Welcome to Sanskrit Gurukul. In this post, we will learn about Jain Darshan and its similarity with Ayurveda. In this lesson of padarth Vigyan, we have covered the following topics

Jain darshana, padarth vigyan notes, Ayurveda , BAMS

Jain Darshana

It is one of the Nastika Darshana. It accepts the existence of Atma and Paramatma. But doesn’t accept the authenticity of Vedas. Hence counted under Nastika Darshana. It is still practiced by the majority due to its valuable principles.
Its 1st Tirthankar is Rishabhadev, 23rd Tirthankar is Parshwanath, and the 24th Tirthankar or Arhat is known as Vardhaman Mahaveer.

The person who tries to escape from worldly bondages and renunciate worldly enjoyments is known as “jin”, the group is known as “Jain” and the tradition is known as “Jainism”.

Jains accept the atomic theory for the cause of creation.

 The main objectives of Jainism are practicing Nonviolence, service to humanity, simple living, renouncing worldly enjoyments, and the belief that worldly acts are dreamlike but appear to be real. (Ahimsa, Satya, Asteya, Aparigraha, and Brahmacharya are the principles).

The Jain theory is known as Syadvada or Anekantavada or Saptabhanginivada.

Jains are two types – Swetambara, Digambara

Jains believe that Adharma creates bondage of the world and Dharma Kriya promotes salvation (Moksha)

By practicing Ratnatraya (triple gems of Jainism) – Samyak Bhakti (RIght faith), Samyak Gyan (RIght knowledge), Samyak Charitra (RIght conduct), the Karma gets exhausted and leads to Moksha or Nirvana

Anantha chatushtaya can be achieved after attaining Moksha or Nirvana, they are – 1) Ananta-Darshana, 2) Ananta-jnana (Infinite knowledge) 3) Ananta ananda (Infinite Bliss) 4) Ananta-shakti (Infinite energy).

Jains believe in 3 pramana, they are Pratyaksha (perception), Anumana (Inference), and Aptopadesha authoritative statements).

Jains believe in 6 prameya which are Jiva, Pudgala, Dharma, Adharma, Akasha, and Kala (with Asrava Samvara and Nirjara also treated as 9).

Similarities of Jain with Ayurveda.

  • 3 Pramana,
  • Sadvritta (moral values),
  • Ahimsa (non-violence),
  • Believing Atma and Paramatma,
  • The ultimate aim of life is salvation or Nirvana,
  • Publication of Ayurvedic books like Kalyana karaka,
  • Atomic theory for the cause of creation,
  • Theory of Karma and Karma-Phala in connection to life and fate,
  • Renunciation is the way to escape from the bondage of life.
  • Service to humanity is the aim of life.

Dissimilarities between Jain and Ayurveda

JainAyurveda
Atheistic philosophy or Heterodox philosophy or Nastika DarshanaTheistic philosophy or Orthodox philosophy or Astika Darshana
Creation is Anadi (no origination) Neither created nor destructedCreation is not Anadi. Creator present (Paramatma)
Doesn’t accept the authenticity of VedaAccept the authenticity of Veda
Salvation is known as NirvanaSalvation is known as. Moksha or Kaivalya.
Prameyas 6. They are, Jiva, Pudgala, Dhartna, Adttarrna, Akasha and Kala (Asrava, Samvara and Nirjara also)Prameyas are 9 : Pancha Mahabhutas, Atma, Kala Manas, and Dik
Ratna for salvationAstanga yoga for salvation.
Believe the Tirthankara as GodBelieve the Paramatma as God

जैन दर्शन

जैन दर्शन, नास्तिक दर्शनों में से एक है। यह आत्मा तथा परमात्मा को तो मानता है परन्तु वेदों की सत्ता को स्वीकार नहीं करता इसलिये नास्तिक दर्शन की श्रेणी में आता है। जैन दर्शन ईश्वर को नहीं मानता, यह तीर्थंकर को मानता है। जैनमत के अनुसार 24 तीर्थंकर हुए है। पहले तीर्थंकर ऋषभदेव थे तथा 24वे तीर्थंकर भगवान महावीर थे। ये तीर्थंकर मुक्त होते थे तथा अपने मत का प्रचार करते थे।

जो व्यक्ति सांसारिक बंधनों से बचने और सांसारिक भोगों को त्यागने का प्रयास करता है, उसे “जिन” के रूप में जाना जाता है, समूह को “जैन” और परंपरा को “जैन धर्म” के रूप में जाना जाता है।

जैन धर्म के मुख्य उद्देश्य अहिंसा का अभ्यास करना, मानव सेवा करना, सादा जीवन, सांसारिक भोगों का त्याग करना और यह मानना ​​है कि सांसारिक कार्य स्वप्न के समान हैं लेकिन वास्तविक प्रतीत होते हैं। (अहिंसा, सत्य, अस्तेय, अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य ये सिद्धांत हैं)।

जैन सिद्धांत कोअनेकान्तवाद, स्याद्वाद (अर्थात् इसे बाह्य जगत् के बारे में कोई निश्चित मत नहीं है), सप्तभगीनयवाद के नाम से जाना जाता है।

इस दर्शन के अनुसार जगत अनादि काल से प्रचलित है और अनन्त काल तक इसकी धारा प्रवाहित रहेगी। जैन दर्शन का मानना ​​है कि अधर्म शरीर को दुनिया के बंधन में बंधता है और धर्म क्रिया मोक्ष को बढ़ावा देती है।

रत्नत्रय का अभ्यास करने से – 1) सम्यक भक्ति, 2) सम्यक ज्ञान, 3) सम्यक चरित्र, कर्म समाप्त हो जाते हैं और मोक्ष या निर्वाण की प्राप्ति होती हैं। मोक्ष या निर्वाण प्राप्त करने के बाद अनंत चतुर्भुज प्राप्त किया जा सकता है, वे हैं – 1) अनंत-दर्शन, 2) अनंत-ज्ञ3) अनंत आनंद 4) अनंत-शक्ति।

यह कर्म को जीवन का नैतिक नियम और अहिंसा को मनुष्य का सर्वोत्तम गुण मानते है। यह प्रत्यक्ष, शब्द और अनुमान, तीन प्रमाणों को मानता है।

इसके अनुसार द्रव्य ६ है : धर्म, अधर्म, आकाश, काल, पुदगल एवं जीव। यह मोक्ष को निर्वाण मानते है

जैन और आयुर्वेद में समानता

  • 3 प्रमाण,
  • सद्वृत्ता (नैतिक मूल्य)
  • अहिंसा
  • आत्मा और परमात्मा को मानना
  • जीवन का अंतिम उद्देश्य मोक्ष या निर्वाण है
  • कल्याण कारक जैसी आयुर्वेदिक पुस्तकों का प्रकाशन
  • सृष्टि के कारण के लिए परमाणु सिद्धांत
  • जीवन और भाग्य के संबंध में कर्म और कर्म-फल का सिद्धांत
  • त्याग जीवन के बंधनों से बचने का तरीका है।
  • मानवता की सेवा ही जीवन का लक्ष्य
रचनाकारभगवान महावीर
पर्याय:अनेकान्तवाद, स्याद्वाद, सप्तभगीनयवाद
प्रमाण प्रत्यक्ष, शब्द और अनुमान
द्रव्य:धर्म, अधर्म, आकाश, काल, पुदगल एवं जीव
मोक्ष मार्ग सम्यक भक्ति, सम्यक ज्ञान, सम्यक चरित्र
जैन दर्शन

In the next lesson, we will learn more about other Darshana. If this post helps you in understanding the Padarth vigyan and Jain Darshana better, please like and share the post. It will keep us motivated. For any query and question please comment below and will try to solve it asap. अगले पाठ में हम अन्य दर्शनों के बारे में और जानेंगे। अगर यह पोस्ट आपको पदार्थ विज्ञान और जैन दर्शन को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है, तो कृपया पोस्ट को लाइक और शेयर करें। यह हमें प्रेरित करता रहेगा। किसी भी प्रश्न और प्रश्न के लिए कृपया नीचे टिप्पणी करें और इसे जल्द से जल्द हल करने का प्रयास करेंगे।

,
Home » Jain Darshana (जैन दर्शन)

Processing…
Success! You're on the list.
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: