दृश् / पश्य ( To see) के धातु रूप संस्कृत (Sanskrit)

Drshy/ pashy ke dhatu roop sanskrit me

The meaning of drshy pashy dhatu is “to see”.

In this post we will learn about dhatu roop of Drashye/pashy in present tense which also called लट् लकार in sanskrit.

The dhatu’s roop of Drshy/pashy are given below. We can make any other identical dhatu roop in similar manner.


दृश् / पश्य (देखना) के धातु रूप संस्कृत में

दृश् / पश्य धातु का अर्थ है “देखना”।

इस पोस्ट में हम वर्तमान काल में दृश् / पश्य के धातु रुप के बारे में जानेंगे जिसे संस्कृत में लट् लकार भी कहा जाता है।

दृश् / पश्य के धातु के धातु रुप नीचे दीये गऐ है। हम किसी भी अन्य समान धातु को समान तरीके से बना सकते हैं।

लट् लकार एकवचन द्विवचन बहुवचन
प्रथम पुरूष पश्यति पश्यत: पश्यन्ति
मध्यम पुरूष पश्यसि पश्यथ: पश्यथ
उतम पुरूष पश्यामि पश्याव: पश्याम:

3 thoughts on “दृश् / पश्य ( To see) के धातु रूप संस्कृत (Sanskrit)”

  1. Pingback: स्था/ तिष्ठ धातु रुप लट् लकार- Stha/ Tishtha dhatu roop lat lakar(present tense) – Sanskrit Gurukul

  2. Pingback: दृश् / पश्य ( To see) के धातु रूप संस्कृत (Sanskrit) – Sanskrit Gurukul

  3. Pingback: laugh/हस्: (हसना)धातु रूप लट् लकार – Sanskrit Gurukul %

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: